उपेंद्र कुशवाहा को करना होगा फैसला आरएलएसपी साथ देगी या छोड़ेगी महागठबंधन

0

आरएलएसपी के उच्च स्तरीय बैठक में तय किया गया है कि पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा यह फैसला लेंगे कि आरएलएसपी महागठबंधन के साथ रहेगी या नहीं। यह फैसला प्रदेश एवं राष्ट्रीय कमेटी ने सर्वसम्मति से लिया है
आरएलएसपी का कहना है कि महागठबंधन में बने रहने के लिए उन्होंने बहुत कोशिशें की लेकिन या परिस्थितियां राजद के व्यवहार के कारण उत्पन्न हुई है। वहीं पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने कहा है कि पार्टी ने उन्हें फैसला लेने के लिए अधिकृत किया है कि आरएलएसपी महागठबंधन में रहेगी या नहीं, और उन्हें पार्टी का देखते हुए फैसला लेना होगा।
आरएलएसपी ने बताया है कि उन्होंने राजद से 35 सीटों की मांग की थी जिसके लिए उन्होंने दो बार तेजस्वी यादव और कई बार राजद के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह से कार्यालय पर मुलाकात की लेकिन राजेश उन्हें 10 से 12 सीट से अधिक देने के लिए तैयार नहीं थी।
महागठबंधन की एक और पार्टी विकासशील इंसान पार्टी ने भी उपेंद्र कुशवाहा को मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर सबसे काबिल और अनुभवी नेता माना है और सलाह दी है कि महागठबंधन की ओर से उन्हें मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया जाए। वीआईपी के प्रवक्ता राजीव मिश्रा ने महागठबंधन से वीआईपी के अध्यक्ष मुकेश साहनी को उपमुख्यमंत्री का चेहरा बनाने की मांग भी की है।
आरएलएसपी इसके पहले एनडीए गठबंधन में थी और 3 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे थे और तीनों जगह जीत प्राप्त की थी आरएलएसपी को कुल वोट के 1.5 प्रतिशत मिला था। आरएलएसपी ने एनडीए गठबंधन को यह का कर छोड़ दिया था कि उन्हें छोटे पार्टियों के प्रति भाजपा का अहंकार दिखता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here