UP journalist murder case : आरोपियों ने सैनिटाइजर से घर में लगाई थी आग

0

उत्तर प्रदेश के बलरामपुर में 35 वर्षीय पत्रकार और उसके दोस्त की हत्या के मामले में तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पत्रकार की घर में आग लगने से मौत हो गई थी। आरोपियों ने घर को जलाने के लिए अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर का इस्तेमाल किया था ताकि हत्या एक हादसे की तरह लगे। बलरामपुर के पुलिस अधीक्षक (एसपी), देव रंजन वर्मा ने कहा कि गिरफ्तार किए गए लोगों में ललित मिश्रा, केशवानंद मिश्रा और अकरम अली शामिल हैं।

उन्हें सोमवार को बहादुरपुर क्रॉसिंग के पास एक जंगल से गिरफ्तार किया गया था।

तीनों ने अपना अपराध कबूल कर लिया है।

एसपी ने कहा कि केशवानंद की मां ग्राम प्रधान थीं और राकेश सिंह ने उनके कामकाज में भ्रष्टाचार को उजागर किया था। आरोपी इस वजह से राकेश सिंह से नाराज था।

एसपी ने कहा, “वे कुछ बातचीत करने के बहाने उनके घर गए। उन्होंने राकेश सिंह और उनके दोस्त को शराब पिलाई और बाद में घर में आग लगा दी।”

पुलिस अधिकारी ने कहा, “केमिकल का इस्तेमाल कर घर को जलाने के लिए ललित मिश्रा और केशवानंद मिश्रा ने अकरम अली उर्फ अब्दुल कादिर की मदद ली, जो इस तरह की घटनाओं को अंजाम देने में माहिर हैं।”

स्थानीय समाचार पत्र के लिए काम कर रहे 35 वर्षीय पत्रकार राकेश सिंह और 32 वर्षीय उनके दोस्त पिंटू साहू शनिवार को कलवारी गांव में घर में लगी आग में गंभीर रूप से झुलस गए थे।

साहू की मौके पर ही मौत हो गई और 90 फीसदी जलने के साथ राकेश सिंह को लखनऊ के अस्पताल में रेफर कर दिया गया, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई।

पुलिस के अनुसार, राकेश सिंह की पत्नी और बच्चे घटना के दो दिन पहले एक रिश्तेदार के घर गए थे।

पुलिस ने कहा कि शुक्रवार/ शनिवार की दरमियानी रात को घर में विस्फोट हुआ था, जिससे घर की एक दीवार ढह गई थी और एक कमरे में आग लग गई थी।

बलरामपुर जिला प्रशासन ने पत्रकार की पत्नी को पांच लाख रुपये का मुआवजा दिया है। विधायक पलटूराम द्वारा मृतक के परिवार को चेक सौंपा गया था।

इस बीच, बलरामपुर चीनी मिल के प्रबंधन ने जिला प्रशासन को आश्वासन दिया है कि वे मृतक की पत्नी विभा सिंह को रोजगार प्रदान करेगा।

प्रशासन ने पत्रकार की बेटियों के लिए मुफ्त शिक्षा का भी वादा किया है।

इससे पहले, पत्रकार की पत्नी ने धमकी दी थी कि अगर पुलिस आरोपियों को नहीं पकड़ती है तो वह खुद को आग के हवाले कर देंगी। पुलिस ने कहा कि गिरफ्तार आरोपियों को जेल भेज दिया गया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleAirtel Vs Vodafone: हर दिन 300 रुपये से कम में 2GB डेटा, फ्री कॉलिंग और कई फायदे,जानें
Next articleमोदी सरकार की बड़ी सफलता, Google, Facebook, Twitter आपके डेटा को भारत में रखेंगे, यूपी इस शहर का पहला केंद्र होगा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here