Union Minister Javadekar ने बताया- क्यों खास है इस बार का इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया?

0

इंटरनेशन फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया के आयोजन में हिस्सा लेने के लिए यहां पहुंचे सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर ने बताया कि कोरोना काल में शनिवार से 51वें फिल्म महोत्सव का शुभारंभ हो रहा है। दुनिया भर से 224 फिल्में इस फेस्टिवल में शरीक होंगी। केंद्रीय मंत्री ने कला और संस्कृति की दृष्टि से इस आयोजन को बहुत महत्वपूर्ण बताया। केंद्रीय मंत्री के मुताबिक, पूर्व की तुलना में इस बार भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव कुछ खास होगा। कोविड-19 के कारण पहली बार हाईब्रिड आयोजन हो रहा है। फिल्मोत्सव के हाईब्रिड होने के कारण लोग इसे ऑनलाइन भी देख सकेंगे। उन्होंने बताया कि फिल्म फेस्टिवल में सभी तरह की फिल्मों का प्रदर्शन होगा। दूरदर्शन व अन्य चैनल सहित सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्म पर प्रसारण होगा।

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि इस फिल्मोत्सव को देखने पर सभी को आनंद मिलेगा। थियेटर में कोविड 19 के प्रोटोकॉल का सख्ती से पालन होगा। उन्होंने कहा कि यह कला और संस्कृति की दृष्टि से महत्वपूर्ण 51 वां एडिशन है। हर बार 16 नवंबर से 24 नवंबर तक इसका आयोजन होता है। लेकिन, कोविड के कारण इसे स्थगित कर इस बार जनवरी में किया है। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा, “मुझे पूरी उम्मीद है कि वर्ष 2021 के लिए इंटरनेशन फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया का आयोजन 16 नवंबर से ही होगा। इस कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए आए हुए सभी प्रतिनिधियों का स्वागत है।”

देश भर में 16 जनवरी से शुरू होने जा रहे कोरोना टीकाकरण अभियान को लेकर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा कि वैक्सीन पहले हेल्थ वर्कर्स, सफाईकर्मियों को लगेगी। इसके बाद अन्य लोगों को भी वैक्सीन मिलेगी। नंबर आने के बाद लोग जरूर वैक्सीन लगवाने जाएं। जावडेकर ने कहा कि इस महामारी से बचाव का वैक्सीन ही इसका एकमात्र इंश्योरेंस है।

बता दें कि 51वां इफ्फी महोत्सव 16 से 24 जनवरी तक आयोजित किया जा रहा है। इसे पहली बार हाइब्रिड तरीके से आयोजित किया जा रहा है और इसमें ऑनलाइन और व्यक्तिगत दोनों तरह के अनुभव शामिल होंगे। इस महोत्सव में चर्चित फिल्मों की भरमार होगी। इसमें भारतीय पैनोरमा फिल्म खंड के अंतर्गत 21 गैर-फीचर फिल्में और 26 फीचर फिल्में भी शामिल हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleBihar : मानव श्रृंखला को ऐतिहासिक बनाने के आह्वान के साथ किसान महासभा का धरना समाप्त
Next articleGolf : सोनी ओपन में लाहिरी संयुक्त 72वें स्थान पर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here