वैश्विक संकट के बीच UNGA का 75 वां वर्षगांठ सत्र शुरू

0

संयुक्त राष्ट्र महासभा के नए सत्र के उद्घाटन ने 75 साल पहले शुरू हुए वैश्विक संगठन की गूंज को प्रतिध्वनित किया जब दुनिया एक संकट से उबर रही थी।

तब 51 देश इसके सदस्य थे। भारत उनमें से एक था। उस समय विनाशकारी द्वितीय विश्व युद्ध बस खत्म ही हुआ था और सब इससे उबरने की कोशिश कर रहे थे। इस साल कोविड-19 जैसी महामारी है जिसकी चपेट में संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देश हैं।

मंगलवार को विधानसभा का 75वां सत्र शुरू होने से ठीक पहले, महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा, “कोविड -19 महामारी ने हमारे जीवन और हमारे समुदायों को प्रभावित किया है। हम सभी अनिश्चितता के उच्च स्तर से निपट रहे हैं। फिलहाल हम अभी भी समस्या के बीच में हैं।”

सत्र को संयुक्त राष्ट्र के एक भव्य कार्यक्रम के रूप में मनाने की योजना थी और इसमें राष्ट्रपतियों, प्रधानमंत्रियों को भाग लेना था, ताकि एक बेहतर दुनिया के संकल्प का नवीनीकरण हो सके। लेकिन कोविड महामारी ने सब पर पानी फेर दिया।

इसके बजाय, विश्व के नेता अगले सप्ताह न्यूयॉर्क में होने वाली असेंबली की उच्च स्तरीय बैठक के दौरान पहले से रिकॉर्ड किए गए वीडियो के जरिए बोल रहे होंगे।

75 वें सत्र की शुरुआत के मौके पर गुटेरेस ने कहा, “यह वर्ष हमारे संगठन के जीवन में महत्वपूर्ण होगा।”

वहीं, 75वें सत्र की अगुवाई करने वाले वोल्कन बोजकिर ने संयुक्त राष्ट्र के लिए अन्य खतरे ‘एकपक्षीयता’ (यूनिलैटरलिज्म) की ओर ध्यान खींचा।

उन्होंने कहा, “कोई भी देश इस महामारी से अकेले नहीं लड़ सकता है। सोशल डिस्टेंसिंग से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद नहीं मिलेगी। एकपक्षीयता केवल महामारी को मजबूत करेगा।”

नए महासभा प्रमुख ने कहा कि संकट के इस समय में, यह हमारी जिम्मेदारी है कि बहुपक्षीय सहयोग और अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं में लोगों के विश्वास को मजबूत करें।

अपने मिशन को रेखांकित करते हुए, बोजकिर ने कहा, “मैं इस हॉल को मानवता की संसद के रूप में देखता हूं। और मैं इस मंच का उपयोग दुनिया के सबसे कमजोर लोगों की आवाज को बढ़ाने के लिए करना चाहता हूं।”

महासभा के 75 वें सत्र के दौरान भारत के लिए अग्रिम पंक्ति की सीट होगी, जो अगले साल सितंबर तक चलेगी।

बैठने की व्यवस्था लॉटरी के आधार पर प्रत्येक सत्र के लिए वणार्नुक्रम में की जाती है, जिसे आइसलैंड ने पहली सीट के साथ जीता। भारत के स्थायी प्रतिनिधि टी.एस. तिरुमूर्ति ने दूसरी सीट ली।

बोजकिर ने बताया कि तुर्की के राष्ट्रपति रेसेप तैयप एर्दोगन सहित कुछ नेता 22 सितंबर से शुरू होने वाले सत्र की उच्चस्तरीय बैठक में भाग लेना चाहते थे, लेकिन 14 दिन के जरूरी क्वारंटीन के कारण नहीं कर सके।

न्यूयॉर्क राज्य द्वारा लागू किया गया क्वांरटीन नियम केवल विदेशों से बैठक में आने वाले नेताओं पर लागू होता है।

ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अगले मंगलवार को बैठक में आ सकते हैं, लेकिन बोजकिर ने कहा कि उन्होंने कोई आधिकारिक अधिसूचना नहीं देखी है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articlePrasoon Joshi birthday: ऐसे शुरू हुआ था प्रसून जोशी का करियर, छोटी सी उम्र में लिख डाली थी किताब
Next articleIPL 2020:CSK की बढ़ी मुश्किलें, दूसरी बार कोरोना पॉजिटिव आया ये खिलाड़ी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here