UN MYANMAAR : संयुक्त राष्ट्र ने म्यांमार की सेना से हिंसा रोकने को कहा

0

संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख ने गुरुवार को कहा कि म्यांमार के फरवरी 1 तख्तापलट के बाद से कम से कम 54 लोग मारे गए हैं और 1,700 से अधिक लोग हिरासत में हैं। संयुक्त राष्ट्र द्वारा यह टिप्पणी म्यांमार में विरोध प्रदर्शन के सबसे घातक दिन के बाद आई है, जिसमें रैलियों में कम से कम 38 मारे गए थे। बुधवार को सुरक्षा बलों को भीड़ पर फायरिंग करते हुए भी देखा गया था। संयुक्त राष्ट्र के अधिकारी प्रमुख मिशेल बाचेलेट ने सुरक्षा बलों से “शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों पर उनके कार्रवाई को रोकने” का आग्रह किया।

उन्होंने अपने एक बयान में कहा, “म्यांमार की सेना को प्रदर्शनकारियों को मारना और जेल में डालना बंद कर देना चाहिए।” उन्होंने कहा कि यह पूर्ण रूप से अशोभनीय है कि सुरक्षा बल देश भर में शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के खिलाफ गोला बारूद चला रहे हैं। बाचेलेट ने कहा कि वह “उन मेडिकल स्टाफ और एम्बुलेंस पर भी हमला कर रही थी जो घायल लोगो की मदद कर रहे थी।

संयुक्त राष्ट्र के अधिकार कार्यालय ने कहा कि 1 फरवरी से अब तक कम से कम 54 लोग पुलिस और सैन्य अधिकारियों द्वारा मारे गए थे। संयुक्त राष्ट्र ने आगे कहा की वास्तविक आंकड़े इससे भी ज्यादा हो सकते है , चूँकि संयुक्त राष्ट्र अभी तक इतने ही आंकड़ों की पुष्टि कर पाने में सफल हो पाया है। ”

हाल के दिनों में हत्याएं तेजी से बढ़ी हैं।

अधिकार कार्यालय ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र की अन्य संस्थाओं द्वारा बताई गई 38 मौतों में से 30 का सत्यापन किया, जिसमें कहा गया था कि सुरक्षा बलों द्वारा हत्याएं यांगून, मांडले, सागिंग, मैगवे और मोन में हुई थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here