एक साथ ले सकते हैं कई डिग्री, UGC फिर कर रहा इस योजना पर विचार

0
332

जयपुर। छात्र हितों को देखते हुए विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यानी यूनिवर्सिटी ग्रांट कमिशन एक बड़ा निर्णय ले सकता है जिसके अंतर्गत एक ही विश्वविद्यालय से एक साथ कहीं डिग्रियां हासिल करने या विभिन्न विश्वविद्यालयों से एक ही साथ डिग्रियों पर काम करने को छूट दी जा सकती है विश्वविद्यालय अनुदान आयोग यूजीसी ने इस पर विचार करना शुरू कर दिया है और यूजीसी ने अपने उपाध्यक्ष भूषण पटवर्धन की अध्यक्षता में एक पैनल का गठन भी किया है जो एक ही विश्वविद्यालय या विभिन्न विश्वविद्यालयों से एक साथ दो डिग्री कार्यक्रमों को आगे बढ़ाने के मुद्दे की जांच करेगा.

हालांकि आपको मालूम हो कि यह पहली बार नहीं है कि जब आयोग इस मुद्दे पर जांच कर रहा हो या विचार कर रहा हूं इससे पहले यूजीसी ने साल 2012 में भी इसी तरीके से एक समिति गठित करी थी और उस समय विचार-विमर्श किया गया था लेकिन अंतत इस विचार को रद्द कर दिया गया था लेकिन एक बार फिर यूजीसी इस बारे में विचार कर रहा है और इसके लिए समिति तैयार करी गई है.

वहीं इस मामले को लेकर मीडिया में आई खबर के अनुसार यूजीसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि पैनल का गठन पिछले महीने के अंत में कहा गया था और पहले की एक बार मिल चुका है और अब विचार विमर्श कर इसकी व्यावहारिकता का पता लगाने के लिए काम किया जा रहा है और इसके विभिन्न है तो धारकों के साथ परामर्श भी किया जा रहा है.

हैदराबाद विश्वविद्यालय के तत्कालीन कुलपति फुरकान कमर की अध्यक्षता वाली साल 2012 की समिति ने सिफारिश करी थी कि नियमित मोर्च के तहत डिग्री प्रोग्राम में दाखिला लेने वाले ने बताया था कि 1 से अधिक करने के लिए एक ओपन या डिस्टेंस मोड के तहत अधिकतम 1 अतिरिक्त डिग्री प्रोग्राम को देने की अनुमति करी जा सकती है.

हालांकि नियमित मोड के तहत 2 डिग्री कार्यक्रम को एक साथ अनुमति नहीं दी जा सकती है क्योंकि यह लॉजिस्टिकली राष्ट्र से निकली और शैक्षणिक समस्याओं को पैदा कर सकता है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here