सुशांत की मौत से प्रचार में आने की कोशिश नैतिकता के खिलाफ : Nishant Malkanic

0

टेलीविजन स्टार निशांत मल्कानी ने छोटे पर्दे पर अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत के साथ एक कलाकार के तौर पर अपने करियर के शुरुआती दिनों में काफी करीब रहकर काम किया है। निशांत का कहना है कि वह अब तक सुशांत की मौत पर टिप्पणी करने से खुद को दूर रखते हैं क्योंकि कई लोग इसे प्रचार में आने के एक माध्यम के रूप में देख रहे हैं। निशांत ने बताया, “शुरुआत में मुझे इस पर टिप्पणी करना पसंद नहीं आया क्योंकि पहले लोग पब्लिसिटी पाने के लिए मौत पर अपनी राय दे रहे थे और मुझे नहीं लगता कि यह सही है। किसी की मौत को प्रचार में आने का जरिया बनाना मेरे ख्याल से नैतिकता के खिलाफ है, लेकिन अब वह शुरुआती दौर बीत चुका है, अब जो वाकई में सच्चे हैं सिर्फ वही सुशांत के बारे में अपने विचार साझा कर सकते हैं।”

निशांत ‘प्रीत से बांधी ये डोरी राम मिलाए जोड़ी’ में अनुकल्प गांधी के मुख्य किरदार में थे, उसी दौरान सुशांत भी धारावाहिक ‘पवित्र रिश्ता’ में मानव देशमुख का किरदार निभाकर अपनी पहचान बना रहे थे। इन दोनों ही कार्यक्रमों को एक ही चैनल पर प्रसारित किया जाता था।

निशांत कहते हैं, “एक ही इंडस्ट्री में साथ काम करने की बात भूल जाइए, एक इंसान के तौर पर मुझे लगता है कि अगर किसी ने अपनी जान ली है तो गुनहगारों को सामने लाए जाने और दंडित किए जाने की आवश्यकता है।”

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleMotorola moto X4 की समीक्षा:जाने खासियत ओर कीमत।
Next articleAditya Birla Group द्वारा संचालित Idea-Vodafone के Payment Bank जल्द हो सकते बंद : RBI
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here