Travel tips:शोधकर्ताओं ने किया खुलासा, नियमित रूप यात्रा करने से हृदय रहता स्वस्थ

0

जयपुर।घर पर बैठे रहने और काम के बोझ के कारण हमारे शरीर का तनाव बढ़ने लगता है।हालांकि कोरोना दौर में यह परेशानी सबसे ज्यादा देखी जा सकती है।ऐसे में यात्रा के लिए समय निकालना आवश्यक है क्योंकि यह ना केवल तनाव को कम करने में मदद करता है बल्कि हृदय रोगों के जोखिम को कम करता है।

शोधकर्ताओं ने किया खुलासा—
हाल ही में किए गए एक शोध में के बारे में मनोविज्ञान और स्वास्थ्य पत्रिका में प्रकाशित लेख में बताया गया है कि जो लोग यात्रा या ट्रैवल करते है उन को शरीर का तनाव और हृदय रोग का खतरा कम होता है।साइरसस विश्वविद्यालय, यूएस के शोध में शोधकर्ताओं का कहना है कि ‘हमने पाया कि जो लोग पिछले 12 महीनों में अधिक बार छुट्टी लेते हैं, उनमें उपापचयी सिंड्रोम और चयापचय संबंधी लक्षणों के लिए कम जोखिम होता है।

इस कारण बढ़ता हृदय रोगों का खतरा—
हमारे मेटाबोलिक सिंड्रोम हृदय रोग के लिए जोखिम कारकों का एक संग्रह माना गया है।इसके बढ़ने से शरीर हृदय रोगों का शिकार आसानी से हो सकता है।इसके अलावा शरीर का बढ़ता तनाव हमारे ब्लड प्रेशर को बढ़ाने में मदद करता है और इससे हार्ट अटैक व अन्य हृदय संबंधी रोगों का खतरा कई गुना बढ़ जाता है।

इस प्रकार किया शोधकर्ताओं ने खुलासा—
साइरसस विश्वविद्यालय, यूएस के शोधकर्ताओं ने 63 कर्मचारियों को सवेतन अवकाश के लिए पात्र बनाकर 12 महीनों की छुट्टी पर भेजा और प्रतिभागियों के रक्त परीक्षण किया।इसके बाद पिछले 12 महीनों में छुट्टियों के व्यवहार का आकलन करते हुए एक साक्षात्कार पूरा किया।अध्ययन के निष्कर्षों से पता चला है कि प्रतिभागियों द्वारा लिए गए प्रत्येक अतिरिक्त अवकाश के साथ चयापचय सिंड्रोम के लिए जोखिम लगभग एक चौथाई घट गया है।जिससे उनमें हृदय रोगों का खतरा कम हुआ है।

SHARE
Previous articleLal Dora मुक्त हुए गुरुग्राम जिले के 11 गांव
Next articleDelhi में कोरोना के 5,891 नए मामले

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here