टिड्डी नियंत्रण के लिए मंगलवार को हेलीकॉप्टर भेजेंगे तोमर

0

पाकिस्तान के रास्ते देश की सीमा में प्रवेश करने वाले टिड्डी दलों का खात्मा करने के लिए पूरी तैयारी के साथ एक हेलीकाप्टर मंगलवार को राजस्थान के बाड़मेर के लिए उड़ान भरेगा। केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर उत्तर प्रदेश के ग्रेटर नोएडा से हेलीकाप्टर को रवाना करेंगे।

इस मौके पर केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री पुरुषोत्तम रूपाला और कैलाश चौधरी भी मौजूद रहेंगे।

सिंगल पायलट द्वारा संचालित यह बेल 206-बी-3 हेलीकॉप्टर एक बार में 250 लीटर कीटनाशक दवा लेकर उड़ान भरेगा और करीब 25 से 50 हेक्टेयर क्षेत्र में छिड़काव करके टिड्ड्यिों का खात्मा करेगा। यह हेलीकॉप्टर बाड़मेर के उत्तरलाई स्थित एयरफोर्स स्टेशन के लिए रवाना होगा, जहां से प्रोटोकॉल के अनुसार, इसका इस्तेमाल राजस्थान के बारमेड़, जैसलमेर, बीकानेर, जोधपुर और नागौर के रेगिस्तानी इलाके में टिड्डी नियंत्रण अभियान में किया जाएगा।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय से सोमवार को मिली जानकारी के अनुसार, 28 जून तक टिड्डी नियंत्रण अभियान देश के नौ राज्यों के 101 जिलों के 2,33,487 हेक्टेयर क्षेत्र में चलाया गया। इनमें राजस्थान के 31 जिले, पंजाब का एक जिला, गुजरात के पांच जिले, मध्यप्रदेश के 40 जिले, महाराष्ट्र के चार जिले, उत्तर प्रदेश के 13 जिले, छत्तीसगढ़ का एक जिला, बिहार के चार जिले और हरियाणा के दो जिले शामिल हैं।

दो दिन पहले टिड्डियों के झुंड देश की राजधानी दिल्ली के भी पश्चिमी और दक्षिणी हिस्सों में देखे गए थे।

टिड्डी नियंत्रण अभियान में हवाई छिड़काव के लिए हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल पहली बार किया जा रहा है, जबकि ड्रोन के जरिए छिड़काव पहले से ही किया जा रहा है।

इसके अलावा, वाहनों पर लगे स्प्रेयर के साथ 60 नियंत्रण टीमें टिड्डी नियंत्रण कार्य में जुटी हैं, जिनमें केंद्र सरकार के 200 अधिकारी व कर्मचारी शामिल हैं। इंग्लैंड से इस साल जनवरी में 20 ग्राउंड स्पेयर मंगवाए गए थे। इसके बाद जून में 15 माइक्रोनेयर मंगवाए गए हैं और 45 माइक्रोनेयर मशीनें जुलाई में आएंगी।

कृषि मंत्रालय ने बताया कि लोकस्ट सर्किल कार्यालयों के पास इसके बाद 100 से ज्यादा ग्राउंड स्प्रेयर मशीनें होंगी। मंत्रालय ने बताया कि छिड़काव के लिए कीटनाशक दवाओं की पर्याप्त मात्रा बनाए रखने के लिए तीन लाख लीटर मालाथियन 96 फीसदी यूएलवी खरीदने की मंजूरी दी गई है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleबिहार : कोरोना संक्रमितों की संख्या 9,618 हुई, अब तक 7,374 ठीक हुए
Next articleमध्य प्रदेश में कोरोना की सुधरती स्थिति से सरकार को राहत
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here