फिनलैंड के बीच पर मिली अंडे के आकार के हजारों की तादाद में ये दुर्लभ चीज

0
44

दोस्तों, रविवार के दिन फिनलैंड के द्वीप पर हजारों की संख्या में अंडे के आकार की दुर्लभ चीज मिली है इस द्वीप का नाम हैलुओतो द्वीप है । बताया जा रहा है कि ये चीज और कोई नहीं बल्कि दुर्लभ बर्फ के गोले हैं । तस्वीर खींचने वाले रिस्तो मतीला ने बताया कि गोले ‘बर्फ के अंडे’ जैसे दिखाई दे रहे थे और ये ‘अंडे’ समुद्र के किनारे करीब 30 मीटर तक फैले हुए थें । दिखने में ये गोले ऐसे दिखाई दे रहे थे मानो जैसे मैदान में किसी ने फुटबाल रख दी हो ।

फिनिश मौसम विज्ञान संस्थान के विशेषज्ञ, जौनी वेनियो ने कहा कि यह घटना सामान्य नहीं, बल्कि चिंता का विषय है । इलिनोइस स्टेट यूनिवर्सिटी में भूगोल-भूविज्ञान के एमेरिटस प्रोफेसर डॉ. जेम्स कार्टर के अनुसार, शरद ऋतु में ऐसा देखने के लिए मिल जाता है, क्योंकि यह तब जब पानी की सतह पर बर्फ बनना शुरू हो जाती है । फोटो और कमेंट को साझा करने वाले फोटोग्राफर के लिए धन्यवाद, अब दुनिया में कुछ ऐसा देखने को मिलता है ।

 


SHARE
Previous articleटैरो राशिफल 11 नवंबर 2019: जानिए आपके लिए कैसा रहेगा आज का दिन
Next articleट्रैफिक जाम से परेशान ये शख्स खुद के लिए बना रहा है हेलिकॉप्टर
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here