सबरीमाला मंदिर में चौथे दिन भी प्रदर्शन जारी, लेकिन एक महिला को आज मंदिर में जाना दिया गया, जाने कारण

0
215

 

जयपुर। केरल के सबरीमाला मंदिर में आज 52 वर्षीय महिला को प्रदर्शनकारियों ने उन्हें जब अंदर जाने दिया जब महिला ने अपनी उम्र का सबूत उन्हें दिखाया. आपको बता दे की पिछले चार से प्रदर्शनकारियों ने किसी भी महिला को कोर्ट के आदेश के बाद  भी मंदिर में जाने नहीं दिया है. वहीँ अभी तक पुलिस भी नकी सामने कमजोर नजर आ  रही है.

आपको बता दे की सबरीमाला मंदिर में 10 साल से 50 साल की उम्र की महिलाओं का प्रवेश वर्जित था लेकिन हाल ही में कोर्ट ने अपने आदेश से इसे हटा दिया था. बुधवार से मंदिर के बाहर विरोध प्रदर्शन हुए हैं, जब मंदिर के द्वार अदालत के आदेश के बाद पहली बार मासिक अनुष्ठानों के लिए भक्तों के लिए खोले गए थे. विरोधियों ने महिला भक्तों, कार्यकर्ताओं और पत्रकारों को अंदर जाने से रोक दिया जिन्होंने बुधवार से मंदिर में प्रवेश करने की कोशिश की है.

वहीं कुछ महिला पत्रकारों की गाड़ी पर इन प्रदर्शनकारियों ने हमला भी करा था. पठानमथिट्टा जिला कलेक्टर पीबी नोह ने शनिवार को इस घटना के बारे में रिपोर्ट करी, नोह ने कहा, “एक महिला दर्शन के लिए आई थी.कुछ समाचार चैनलों ने उसका पीछा किया. फिर भीड़ इकट्ठी हुई. यही एकमात्र मामला था.” नोह ने कहा कि मंदिर के दर्शन करने के कोई महिला आई हो इस बात की कोई पुष्टि नहीं हुई है.

इस बीच, पठानमथिट्टा में एक अदालत ने कार्यकर्ता राहुल ईश्वर की जमानत याचिका खारिज कर दी, जिन्होंने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था. ईश्वर की पत्नी का दावा है की उनकी पति की हालत बहुत ख़राब है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here