वाईल्ड लाईफ लवर के लिए हैं यह जगह सबसे बेहतर

0
38

जयपुर। अगर आप हैं वाईल्ड लाईफ लवर तो आप इन छुट्टियों मे ऐसी जगह की तलाश कर रहे होंगे जहां पर आप शांत वातावरण में अपना समय बीता सकों तो आज हम लाएं हैं आपके लिए ऐसी जगह के बारे में जहां पर आप अपना ,समय शहर के शोर से दूर शांत वातावरण में बीता सकते हैं। दूधवा आपके लिए एकदम सही हैं।

इस बार दूधवा मे कई सारे सुंदर पक्षि बसे हुए हैं। तो अगर आप भी हर तरफ हरियाली और वन्य जीवन को देखने के शौकीन हैं, यानी अगर आप वन्यजीव प्रेमी हैं, तो आप दुधवा की इस सप्ताहांत यात्रा की योजना बना सकते हैं। आजकल, यूरेशियन मैरून ओरोल, यूरेशियन गॉसिप और रेड हेडेड वल्चर जैसे सुंदर पक्षियों का जमावड़ा है। यही नहीं, कई दशकों बाद हिमालयन रेंज के येलो क्रेस्टेड बुलबुल को भी देखा गया है।

दूधवा ने अपने पक्षियों की गिनती कर ली हैं और इस बार दूधवा में कुल 450 पक्षियों की प्रजालियों के पाए जाने का दावा किया जा रहा हैं। विशेषज्ञों का मानना ​​है कि बढ़ती गर्मी के कारण, पक्षी कम चिंतित हैं, जबकि उन्हें दुधवा जंगलों में मिलना एक सकारात्मक संकेत है। दुधवा टाइगर रिजर्व के प्रोजेक्ट डायरेक्टर रमेश पांडे के मुताबिक, गर्मियों में यहां आने वाले पक्षियों की गिनती पहले नहीं होती थी। दुधवा प्रशासन ने कतर्नियाघाट फाउंडेशन, डब्ल्यूडब्ल्यूएफ और रूबलैंड नेचर क्लब के अलावा दिल्ली विश्वविद्यालय के विशेषज्ञों को बुलाया था।

यह पक्षि म्यांमार, कंबोडिया, भूटान, म्यांमार, कंबोडिया, भूटान, वियतनाम और थाईलैंड के यूरेशियन मरून ओरिल ने भी दुधवा के जंगलों में अपना ठिकाना बनाया है। ज्यादा गर्मी बर्दाश्त नहीं करने वाले इस पक्षी को दुधवा के जंगल में राहत मिलती है। इसी तरह, दुधवा के जंगलों में साइबेरिया के ठंडे क्षेत्रों से आने वाले यूरेशियन स्पैरो हॉक की संख्या में भी वृद्धि हुई है। दक्षिण भारत के कई प्रांतों के पक्षियों को भी यहाँ दिखाया गया है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here