ये है कलयुग के भीष्म पितामाह, 183 साल है उम्र, मौत भी भूल गई है इनके घर का रास्ता

0
380

जयपुर, इंसान की एवरेज उम्र करीब सौ साल मानी जाती है। कुछ लोग होते है जो सौ साल से कुछ अधिक भी जी लेते हैं। लेकिन आज आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं। जिनके घर का रास्ता मौत भी भूल गई है। इस शख्स का नाम  महाष्टा मुरासी है। इन्होंने अपनी जिंदगी के 183 साल पूरे कर लिए हैं। इतनी उम्र पाने के बाद यह शख्स कहते हैं कि मौत भी शीयद उनके घर का रास्‍ता भूल गई है।

इन्हें देखकर लोगों का कहना है कि उन्हें भिष्म पितामाह से वरदान मिला हुआ है। वह अब नहीं मरेंगे। साथ ही कुछ लोग यह भी कहते है कि उनके पास कोई दैविय शक्ति है। इस शख्स का कहना है कि उनका जन्‍म जनवरी 1835 में बेंगलुरु के एक गांव मे हुआ था। बाद यह 1903 में उत्तर प्रदेश के वाराणसी में रहने आ गए।  इनके अनुसार इस शख्स ने अपनी उम्र के 122 तक काम किया है।

इन्होंने बताया कि वह वाराणसी में रहकर चप्‍पल बनाने का काम करते थे। इतना ही नहीं इनका कहना है कि उन्होंने अपनी जिंदगी के 183 साल पूरे कर लिए हैं। उनके नाती पोतों को मरे हुए कई साल बीत गए हैं। अब इनको ऐसे लगता है कि मौत इनके घर का रास्ता भूल गई है।

इतना ही नहीं अपनी उम्र को साबित करने के लिए यह अपने कई तरह के कागज भी दिखाते है। जो ब्रटिश शासन काल के बने हुए है। उम्र को लेकर चिकित्सकों ने कई बार इनका चेकअप भी किया लेकिन सही उम्र को लेकर अभी भी संसय बना हुआ है.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here