शनि देव के ये दस नाम जिनके जाप से दूर होगी जीवन की हर परेशानी

0
85

जयपुर। ज्योतिष में शनि को विशेष महत्व दिया जाता है। क्योंकि ज्योतिष में शनि को अशुभ ग्रह माना गया है इसका प्रकोप जिस पर पड़ता है उसे जीवन में कई सारी परेशानियों का सामना करना पड़ता है। साथ ही ज्योतिष में माना जाता है कि शनि के पास तीसरी, सातवीं और दसवीं दृष्टि होती है।

इन बिशेषताओं के साथ अन्य विशेषता यह भी है कि शनि न्याय प्रिय देवता है। वे किसी के साथ अन्याय नहीं करते, सभी को उनके कर्मों के आधार पर दण्ड देते है। इसलिए अन्याय करने वालों को तुरंत ही दंड देते हैं।

शास्त्रों में कई लोग शनि को काले और कई नीले रंग से वर्णित किया गया है। उनकी पूजा में नीले रंग के फूल चढ़ाना चाहिए। इसके साथ ही शनि एक राशि में ढाई वर्ष तक रहते हैं और कर्म के अनुसार ही धीरे-धीरे लोगो को फल देते हैं। शनि परम शिव भक्त हैं, इसलिए शनि के दोष से दूर करने के लिए शास्त्रों में हनुमानजी की आराधना का विशेष महत्व माना गया है।

शास्त्रों में माना जाता है कि शनिदेव के दस नामों का जाप प्रतिदिन करने से जीवन की सारी मनोकामना पूरी होती है। शनि के दस नाम इस प्रकार हैं-

कोणस्थ पिंगलो बभ्रु: कृष्णो रौद्रोन्तको यम:।

सौरि: शनैश्चरो मंद: पिप्पलादेन संस्तुत:।।

अर्थात: 1- कोणस्थ, 2- पिंगल, 3- बभ्रु, 4- कृष्ण, 5- रौद्रान्तक, 6- यम, 7, सौरि, 8- शनैश्चर, 9- मंद व 10- पिप्पलाद। इन 10 नामों से शनिदेव का स्मरण करने से सभी शनि दोष दूर हो जाते हैं।

शनि दोष दूर करने के उपाय

शनि के दोष से बचने के लिए दशरथकृत शनि स्तोत्र का पाठ करें। हमेशा अपने माता-पिता की सेवा करें और बुजुर्गों का अपमान नहीं करें। शनिवार को तिल के तेल का दीपक जलाएं, व तिल के तेल से भगवान शनि का अभिषेक करें। काले उड़द, काले तिल या काले चने सामर्थ्य अनुसार दान करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here