गर्मियों में दमकती त्वचा के लिए करें ये उपाय !

0
156

गर्मियों में कील, मुंहासे, फुंसियां, झाइयां, टैनिंग और रूखी बेजान त्वचा से आमतौर पर सभी लोग परेशान होते हैं। इसकी मुख्य वजह है- तेज धूप, गर्म हवाएं और जीवनशैली। हम क्या खाते हैं, क्या पीते हैं, कैसे रहते हैं, यह सब हमारे चेहरे पर झलकता है।

उपयुक्त मात्रा में पानी न पीना, अधिक मात्रा में जंक फूड खाना और त्वचा की साफ सफाई को नजरअंदाज करना- यह सभी चीजें चेहरे से रौनक छीन लेती हैं। जीवन में कुछ सरल बदलाव करके चेहरे पर चमक और कांति कायम रख सकते हैं। इस बारे में बता रहे हैं स्किनक्योर क्लीनिक के त्वचा रोग विशेषज्ञ डॉ. बी.एल. जांगिड़–

अगर आप चाहते हैं कि आपकी त्वचा साफ और दमकती हुई दिखे, तो आपको जीवनशैली और खास तौर पर आपके खाने की आदतों को भी वैसा ही होना चाहिए। इन सरल नियमों का पालन कर आप अपनी त्वचा की सेहत गर्मियों में भी बरकरार रख सकते हैं :

पानी से दोस्ती कीजिए : अधिक तापमान और ज्यादा समय बाहर बिताने के कारण हमारे शरीर में ‘डिहाइड्रेशन’ यानी पानी की मात्रा कम हो जाती है। इससे न केवल सिरदर्द व चक्कर आते हैं, बल्कि त्वचा की चमक भी मध्यम हो जाती है। आपको चाहिए काम से काम दस गिलास सादा पानी रोज पिएं। यदि आप चाय या कॉफी जैसे कैफीन वाले पेय पीते हैं तो इस से तीन गुना अधिक मात्रा में आपको सादा पानी पीना चाहिए।

मेकअप के साथ कभी न सोएं : गर्मियों में मेकअप उतारे बिना आप कभी न सोएं। इसका पालन न करने की वजह से त्वचा की ऊपरी सतह पर गन्दगी की एक परत सी जमने लगती है। यही परत वास्तव में मुहासों का सबसे बड़ा कारण बनती है। इस से झाइयां और ‘पिगमेंटेशन’ यानी त्वचा का रंग बेरंग होने जैसी समस्याएं भी होती हैं। यदि आप मेकअप लगाते हैं तो रात में सोने से पहले उसे जरूर उतार दें।

मॉइस्चराइज करना न भूलें : त्वचा को मॉइस्चराज्ड या नम रखने की अहमियत को नजरअंदाज न करें। आपकी त्वचा जितनी सूखी और बेजान होगी, वह उतनी ही पर्यावरण द्वारा किए गए नुकसान को झेल नहीं पाएगी। प्रदूषण और सूरज की तेज किरणों का सबसे बुरा असर सूखी त्वचा पर ही होता हैं। ऐसे में सनस्क्रीन को भी बिलकुल न भूलें।

स्क्रब का प्रयोग न करें : अपने चेहरे और शरीर को साफ रखने के लिए सौम्य क्लीन्जर का प्रयोग करें। जेल बेस्ड क्लीन्जर या शावर जेल सबसे उत्तम हैं, पर इन्हें भी बहुत ज्यादा न रगड़ें। इस से त्वचा की ऊपरी परत को नुकसान होता है।

स्किनकेयर ट्रीटमेंट्स लें : कई ऐसी सुविधाएं या ट्रीटमेंट्स हैं जो न केवल त्वचा को साफ व क्लियर रखती हैं साथ ही चेहरे की त्वचा को जवान और स्वस्थ रखने में भी मदद करती हैं। पार्लर में जाना चाहें तो क्लीन अप फेशियल या क्लेरिफाइंग फेशियल फायदेमंद हैं। त्वचा विशेषज्ञ या डर्मेटोलॉजिस्ट के पास मेडिकल फेशियल अधिक फायदा पहुंचा सकते हैं।

कार्बन पील ट्रीटमेंट : यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिस से फायदा उसी दिन दिखता है और लम्बे समय तक इसका असर आपके चेहरे पर बरकरार रहता है। यह एक बहुत ही स्पेशलिज्ड ट्रीटमेंट है जिसमे त्वचा विशेषज्ञ या डर्मेटोलॉजिस्ट त्वचा पर पहले कार्बन लगाते हैं। उसके बाद एक बहुत ही हल्का लेजर लगाया जाता है जिस से यह कार्बन के पार्टिकल्स फूट जाते हैं और त्वचा की ऊपरी परत की सफाई करते हैं। इस प्रक्रिया में झाइयां, दाग-धब्बे, निशान वगैरह सभी मिट जाते हैं और चेहरे के ऊपर बारीक बाल भी प्राकृतिक रूप से ब्लीच हो जाते हैं।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस


SHARE
Previous articleइस खूबसूरत लड़की की फोटो में छुपा है भयानक राज, क्या जानना चाहेंगे आप?
Next articleआईओए का सरकार से आईओसी को लिखित आश्वासन देने का अनुरोध
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here