महिलाओं को डिप्रैशन की समस्या से बचा सकती हैं ये बातें, जानें इनके बारे में 

0
251

जीवनशैली में बढती व्यस्तता और नींद के अभाव में कई महिलाएं तनाव की चपेट में आ जाती हैं। इसका मुख्य कारण थकान भी हो सकता है। शोध में पाया गया है कि पुरुषों की तुलना में महिलाएं जल्दी और अधिक संख्या में तनाव का शिकार हो जाती है। जाहिर है कि महिलाओं को घऱ और ऑफिस दोनों जगह की जिम्मेदारियां संभालनी होती हैं जिसके कारण उन्हें अपनी थकान दूर करने का समय नहीं मिलता और वह नींद पूरी नहीं कर पातीं। लेकिन अपनी जीवनशैली में कुछ बातों को ध्यान में रखकर इन समस्यों को दूर किया जा सकता है-

शांति और संयम बरतना आवश्यक

नकारात्मक बातों को सोचने के कारण आपके मन की शांति भंग हो जाती है। वहीं दिनभर काम में लगे रहने के कारण महिलाएं अपना संयम खो देती हैं। लेकिन काम के बीच-बीच में गैप लेकर ऊर्जा की अनुभूति की जा सकती है।

सकारात्मक सोचते रहें

गुस्सा और निराशा आपके शरीर की सारी ऊर्जा खत्म कर देती है इसलिएसकारात्मक सोच रखना बेहद आवश्यक हो गया है। इसके लिए अपने कामों को जल्दी निपटाने की कोशिश करें। आप चाहें तो किताबें पढ सकती हैं या फिर प्रकृति के साथ कुछ समय बिता सकती हैं।

भविष्य की चिंता ना करें

अकसर भविष्य के बारे में ज्यादा सोचने से दिमागी परेशानियां बढ जाती है और लोग तनाव का शिकार हो जाते हैं। लेकिन भविष्य के बारे में सोचने से बेहतर है कि आप आज में जिएं। अगर भविष्य के लिए कुछ प्लान है तो उस पर अमल करें। लेकिन अधिक सोचना आपको दिमागी बीमारियों का शिकार बना सकता है।

चिंता को आदत न बनने दें

पर्सनल और प्रॉफेशनल लाइफ में अकसर ऐसी स्थिति आ जाती है जब आपके अपने करियर और रिश्तों की चिंता सताने लगती हैं। लेकिन चिंता करने से सिर्फ तबियत प्रभावित होती है। इसलिए आराम से बैठकर इनका हल निकलना बेहतर विकल्प रहता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here