वैज्ञानिकों का अदभुत कारनामा 3D दिल से होगी इलाज कि राह आसान

0
164

जयपुर. हर रोज हम दिल कि बीमारियों से होने वाली मौतों के बारे में खबरें पढ़ते और सुनते है औेर हम ये भी जानते है कि इनके आकडें दिन-प्रतिदिन बढ़ते ही चले जा रहे हैं। लेकिन यदि कल्पना करें किे इन सब से हमें छुटकारा मिल जाये तो।

जी हाँ, ऐसा ही कुछ कर दिखाया है टेल अवीव विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के एक दल ने,इन्होनें मनुष्य के खु्न के नमुने और कोशिकाओं का उपयोग करते हुए विश्व का पहला 3D प्रिन्टेड दिल बनाया हैं। जानकारी के मुताबिक इस शोध कार्य को प्रोफेसर ताल दविर ने किया है।

मीडिया  खुलासे में प्रोफेसर दविर ने बताया कि यह पहला अवसर है जब मनुष्य की कोशिकाओं और रुधिर वाहिकाओं का उपयोग करते हुए 3डी दिल का सफल निमार्ण किया जा सका है। इसके साथ ही मेट्रो से रुबरु होने के वक्त भी उन्होंने कहा कि 3D प्रिन्ट दिल बनाने में पहले भी कामयाबी मिल चुकी है, परन्तु मानव रक्त नमुने और कोशिकाओं का उपयोग करते हुए इस प्रकार का प्रथम शोध कभी नहीं किया गया है।

सुचना के अनुसार इस 3डी दिल की तस्वीर सोशल मीडिया पर आग कि तरह फैल रही है। दविर के अनुसार ये दिल संकुचन तो करता है मगर पम्पिंग करने में पूर्णता सार्थक नहीं है। वैज्ञानिकों का कहना है कि भविष्य में इस दिल का उपयोग मनुष्य के ह्रदय ट्रांसप्लांट में किया जा सकता है।

दविर के मुताबिक ऐसा सभंव है कि आगामी दस वर्षो में संसार भर के चिकित्सालयों में अंग प्रिंटर उपलब्ध होंगे जिनसे ऐसे क्रियाकलापों को नियमितता के साथ सम्पूर्ण किया जा सकेगा। अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए उन्होंने अपने दल के अगले उद्देश्य के बारे में बताया कि अब इस 3डी दिल को वास्तविक दिल कि तरह ही पम्पिंग का कार्य करवाना है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here