शिकारा में छिपी है विधु विनोद के निजी जिंदगी की दुखभरी कहानी,मां और भाई को समर्पित की फिल्म

0

बॉलीवुड की फिल्म शिकारा को रिलीज होने में अब कम समय बाकि है इस फिल्म की पहली स्क्रीनिंग 19 जनवरी को मुख्य तौर पर कश्मीरी पंडितो के लिए रखी गई थी।दरअसल 19 जनवरी 2020 को कश्मीरी पंडितों के पलायन के 30 साल हो चुके हैं। ये फिल्म उन कश्मीरी पंडितो की कहानी दर्शाती है जिन्होनें रातों रात अपना घर छोड़ा था।इस फिल्म को बनाने में निर्देशक विधु विनोद चोपड़ा को करीब 11 साल का समय लगा था।ये वाकई में काफी किस्सो को उजागर करेंगी।

हाल ही में फिल्म की स्क्रीनिंग के दौरान विधु विनोद चोपड़ा ने अपनी निजी जिंदगी के खुलासे किये उन्होनें इस फिल्म को अपनी मां और अपने भाई को समर्पित किया और बताया कि इस पलायन के बाद साल 1989 में मां शांति तो कश्मीर छोड़कर मुंबई आ गई थी लेकिन उनका भाई परिंदा कभी वापस नहीं आ पराया।ये पलायन उनकी जिंदगी को हमेशा याद रहेंगा।आपको बता दें कि साल 1990 में करीब चार लाख कश्मीरी पंडियों को रातोंरात घाटी छोड़नी पड़ी थी।

वही विधु ने बताया कि यह फिल्म वास्तविक घटनाओं पर आधारित है और इसमें पलायन के वास्तविक दृश्यों के साथ चार हजार असली कश्मीरी पंडितों को शामिल किया गया है।जिस तरह फिल्म का ट्रेलर देख हर किसी की रुंह कांप गई उसी तरह इस फिल्म में भी कई किस्सो कहानियों को उजागर किया जाएगा।इस विषय पर बन रही ये पहली फिल्म है जिसे देखने के लिए हर कोई उत्साहित है।फिल्म को 7 फरवरी को रिलीज किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here