तुगलकाबाद में दोबारा रविदास मंदिर बनने की राह आसान नहीं

0

तुगलकाबाद वन क्षेत्र की संरक्षित भूमि में गुरु रविदास मंदिर के विध्वंस से संबंधित चल रहे प्रदर्शनों के बीच एक नया मोड़ आ गया है। सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर वन क्षेत्र में मंदिर निर्माण की मांग की गई है। सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर ही गुरु रविदास मंदिर को ध्वस्त किया गया था।

सुप्रीम कोर्ट ने नौ अगस्त को दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) को ढांचा गिराने का निर्देश दिया था। शीर्ष अदालत के निर्देश पर कार्रवाई करते हुए डीडीए ने 10 अगस्त को मंदिर ध्वस्त कर दिया था।

इसके बाद गुरु रविदास के अनुयायियों ने इस कार्रवाई का विरोध करना शुरू कर दिया। शीर्ष अदालत ने यह चेतावनी दी है कि कोई भी मंदिर के विध्वंस का राजनीतिकरण या प्रदर्शन करता है तो उसके खिलाफ अवमानना कार्यवाही शुरू की जा सकती है।

शीर्ष अदालत के कड़े रुख के बाद गुरु रविदास मंदिर के अनुयायियों के लिए यह कानूनी लड़ाई कठिन हो गई है। अदालत ने अपने आदेश में कहा है कि इस मुद्दे को कोई राजनीतिक रंग नहीं दिया जाना चाहिए।

हालांकि, लोगों के विरोध के बाद वक्ष क्षेत्र में मंदिर निर्माण की संभावना हो सकती है लेकिन इसमें भी डीडीए का कड़ा रुख बाधा बनेगा जिसका साफ कहना है कि जमीन सरकार की है और इस पर कोई निर्माण नहीं होने देना चाहिए। ऐसे में गुरु रविदास जयंती समारोह समिति के लिए रास्ता दुश्वार है।

गुरु रविदास मंदिर से जुड़ा मुद्दा पहली बार ट्रायल कोर्ट में तब पहुंचा था जब डीडीए ने पांच नवंबर 1992 को आनधिकृत निर्माण के संबंध में विध्वंस कार्रवाई शुरू करने की बात कही थी।

ट्रायल कोर्ट द्वारा 31 जुलाई 2018 को मामले का फैसला करने के बाद गुरु रविदास जयंती समारोह समिति ने दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया और राहत की मांग की।

20 नवंबर 2018 को दिल्ली हाईकोर्ट ने भी डीडीए द्वारा विध्वंस कार्रवाई के खिलाफ समिति की याचिका खारिज कर दी।

अंतत: नौ अगस्त को सुप्रीम कोर्ट ने समिति को कोई राहत देने से इनकार कर दिया और कहा कि गुरु रविदास जयंती समारोह समिति ने अदालत के वन क्षेत्र को खाली करने के आदेश को नहीं मानकर गंभीर उल्लंघन किया गया है।

समिति ने तर्क दिया कि उक्त भूमि पर 1959 से ही कब्जा है, जो राजस्व रिकॉर्ड में भी है।

समिति ने कहा कि उन्होंने उक्त स्थान पर धर्मशाला के तौर पर चार कमरे बना रखे हैं। इसके अलावा यहां गुरु रविदास मंदिर, आश्रम और रूपानंद के साथ अन्य संतों की समाधि भी बनाई गई है।

समाज ने गुरु रविदास के नाम पर एक स्कूल भी बनाया है।

इस संबंध में डीडीए ने कहा कि समिति की भूमि मालिक के तौर पर राजस्व रिकॉर्ड में कोई एंट्री नहीं है। दिल्ली हाईकोर्ट ने भी अपने आदेश में कहा था कि समाज ने कोई भी दस्तावेज नहीं दिखाया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleसुहाना खान का एनवाययू में पहला दिन, गौरी ने खींची तस्वीर
Next articleFans Reaction: लोगों को पसंद आ रही प्रभास की साहो, बताया मास्टरपीस
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here