भारत में बढ़ते इस वायु प्रदूषण के कारण घट रही है 2.6 साल लोगों की उम्र

भारत एक विकासशील देश है यह बात तो सभी जानते हैं । पर बढ़ती जनसंख्या के चलते यह वायु प्रदूषण में अपना नाम बहुत उचाइयों पर दर्ज भी कर चुका है

0
37

जयपुर । भारत एक विकासशील देश है यह बात तो सभी जानते हैं । पर बढ़ती जनसंख्या के चलते यह वायु प्रदूषण में अपना नाम बहुत उचाइयों पर दर्ज भी कर चुका है । और यह सिलसिला बढ़ता भी जा रहा है । कई सालो से लेकर अब तक हम यह पढ़ते और देखते ही आ रहे हैं की प्रदूषण कितना बढ़ता ही जा रहा है । वायु प्रदूषण सिर्फ गाड़ियों से निकले धुएं के कारण ही नही फैल रहा है बल्कि यह कचरे गंदगी और भी कई सारे ऐसे कारक है जिनके करण फैल रहा है ।

बढ़ती जनसंख्या और क्षारिकरण के कारण पेड़ों की और गाँव के से शुद्ध वातवर्ण की कमी सी हो चली है , जिसके के चले आज हर कोई बीमारियों से परेशान हैं । इस प्रदूषण के कारण कई लोग बीमार पड़ चुके हैं , कई मर चुके हैं , कई को अस्थमा है , कई को कैंसर के मरीज हो गए हैं । यहाँ तक की छोटे छोटे बच्चे भी आज इससे बच नहीं प रहे हैं वह भी बहुत ही जल्द प्रदूषण से शिकार बन कर मौत को प्राप्त हो रहे हैं ।

आज हम इससे जुड़ी एक और जानकारी आपके लिए लेकर हाजिर हुए हैं जो की बहुत ही जरूरी हम सबके लिए । प्रदूषण का बढ्न और लोगों के जीवन का घटना भी हमारी ही करतूत का फल है । हम ही प्रदूषण को फैला रहे हैं और हम ही अपनों को खो रहे हैं अपनी जन के दुश्मन भी खुद ही बन रहे हैं ।

हाल ही में हुए एक सर्वे में यह बात साबित हो चुकी है की लोगों के जीवनकाल के घट जाने के पीछे प्रदूषण का बहुत ही बड़ा हाथ है । वायु प्रदूषण से होने वाली घातक बीमारियों की वजह से भारत में अनुमानित जीवनकाल यानी life expectancy जिसे औसत आयु भी कहते हैं में 2.6 साल की कमी देखी गई है। पर्यावरण के क्षेत्र में काम करने वाले संगठन सीएसई की एक ताजा रिपोर्ट में यह दावा किया गया है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here