दिल्ली भाजपा के नए अध्यक्ष के सामने हैं कई चुनौतियां

0

दिल्ली की सत्ता से 21 साल से दूर भाजपा ने यहां एक बार फिर प्रयोग किया है। पार्टी ने गायक और भोजपुरी फिल्मों के सिनेस्टार रहे सांसद मनोज तिवारी को हटाकर अब एक अनजान से नेता आदेश गुप्ता पर दांव लगाया है। आदेश को न केवल पार्टी की दिल्ली इकाई में नई जान फूंकनी होगी, बल्कि भाजपा के सातों सांसदों को साधकर पार्टी के सभी दिग्गज नेताओं को साथ लेकर चलना होगा। आदेश गुप्ता वैसे तो भाजपा में संगठन के नेता माने जाते हैं, लेकिन उनकी सियासी पारी ज्यादा पुरानी नहीं है। आदेश पहली बार 2017 में पार्षद चुने गए थे और एक साल बाद नॉर्थ एमसीडी के मेयर बनाए गए थे। केंद्रीय नेतृत्व के वह करीब रहे हैं। साफ-सुथरी छवि और मृदुभाषी होना उनके हक में गया है।

अब उनके सामने सबसे बड़ी चुनौती दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सामने सशक्त चुनौती खड़ी करने की है। खास तौर पर तब, जब दिल्ली नगर निगम का चुनाव दो साल से भी कम समय में होना है। लेकिन उससे पहले आदेश गुप्ता के सामने नई टीम बनाने की चुनौती होगी। टीम बनाते समय उनको भाजपा के सभी गुटों के साथ सामंजस्य बनाना होगा, ताकि दिल्ली की जनता में पार्टी की पैठ फिर से बन सके।

गौरतलब है कि बड़े पूर्वाचली वोटबैंक को साधने के लिए मनोज तिवारी को दिल्ली का भाजपा अध्यक्ष बनाया गया था। लेकिन विधानसभा चुनाव में भाजपा का पूर्वाचल वाला दांव नहीं चला। उलटे इससे नुकसान उठाना पड़ा।

आदेश गुप्ता उत्तर प्रदेश के कन्नौज से ताल्लुक रखते हैं। ऐसे में उनको पार्टी के पारंपरिक वोटबैंक और पूर्वाचलियों के बीच सामंजस्य बैठाना होगा। साथ ही, अन्य लोगों को भी साथ रखना होगा।

भाजपा सांसद रमेश विधूड़ी कहते हैं, “आदेश गुप्ता पार्टी के पुराने कार्यकर्ता हैं। भाजपा कार्यकर्ता आधारित पार्टी है। कोई भी कार्यकर्ता यहां अध्यक्ष हो सकता है।” लेकिन यह भी कहा कि अकेला एक आदमी पार्टी में कुछ नहीं कर सकता, इसलिए उसे सभी को साथ लेकर चलना पड़ता है। पूरी टीम को मिलकर काम करना होगा।

उन्होंने कहा, “भाजपा नेतृत्व ने बदलाव किया है, तो हमलोग मिलकर दिल्ली में बदलाव लाएंगे।”

नए अध्यक्ष को दिल्ली के सातों सांसदों और दिग्गजों को भी साधने में खासी मशक्कत करनी पड़ेगी। संगठन और पार्टी के सभी छोटे-बड़े नेताओं का विश्वास जीतना होगा।

दिल्ली भाजपा के वरिष्ठ नेता आशीष सूद कहते हैं, “एक पुराने कार्यकर्ता को जिम्मेदारी दी गई है। आशा है कि वह सबको साथ लेकर चलेंगे, तभी हम दिल्ली को केजरीवाल की गलत नीतियों से छुटकारा दिला पाएंगे।”

आदेश सियासत में नए हैं। यह उनके लिए सियासी तौर पर फायदेमंद भी हो सकता है। खुले मन से वह अगर सबको साथ ले पाए तो इसका फायदा भाजपा को मिल सकता है।

गौरतलब है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव के बाद राष्ट्रीय राजधानी की सियासत में ये सबसे बड़ा बदलाव है। फरवरी में हुए चुनाव में भाजपा को लगातार दूसरी बार आम आदमी पार्टी से मुकाबले में करारी हार झेलनी पड़ी। हार के बाद से ही पार्टी में समीक्षा बैठकों का दौर चला था, जिसमें बतौर प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी के कामकाज पर कई नेताओं ने उंगली उठाई थी। सबसे बड़ा आरोप तालमेल न बनाने का था। कई नेताओं ने आरोप लगाए थे कि तिवारी बतौर अध्यक्ष न तो पार्टी के प्रत्याशियों को जीत दिला पाए और न ही वरिष्ठ नेताओं के साथ मिलकर काम कर पाए।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleइंग्लैंड-विंडीज खिलाड़ियों को फिर से अपना दिमाग तैयार करना होगा : हुसैन
Next articleफिटनेस स्तर थोड़ा गिरा है, धीरे-धीरे सुधार होगा : नीरज चोपड़ा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here