अतीत की गौरवशाली परंपराएं हमें आगे बढ़ने को प्रेरित करती हैं : योगी

0

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि अतीत को विस्मृत करके कोई समाज और राष्ट्र आगे नहीं बढ़ सकता। उन्होंने कहा कि अतीत की गौरवशाली परंपराएं हमें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं। योगी ने शुक्रवार को लखनऊ स्थित अवध शिल्पग्राम में तीन दिवसीय उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस कार्यक्रम का उद्घाटन किया। इस मौके पर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी मौजूद थीं।

योगी ने कहा कि बीते 67-68 वर्षों में किसी को उत्तर प्रदेश के बारे में सोचने की फुर्सत नहीं थी क्योंकि उन्हें यहां की गौरवशाली परंपराओं और अतीत से कोई सरोकार नहीं था। उन्होंने कहा कि अतीत के अनुभव के आधार पर हम अपने भविष्य के निर्माण के लिए योजनाएं बनाते हैं और अतीत की गौरवशाली परंपराएं ही हमें आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा, “24 जनवरी 1950 को उत्तर प्रदेश अस्तित्व में आया था। आज हमने अपनी स्थापना के 70 वर्ष पूरे किए हैं। यह अवसर हम सबके लिए 70 वर्षों की यात्रा पर आत्ममंथन करने का भी है।”

उन्होंने कहा “पिछले वर्ष हमने प्रयागराज में कुंभ का आयोजन किया था। लोग मुझसे पूछते थे कि कितने लोग इस आयोजन में आएंगे, तो मैं कहता था कि उत्तर प्रदेश की आबादी 23 करोड़ है, इससे कम लोग तो नहीं आएंगे। इस पर लोग कहने लगे कि 2013 में तो सिर्फ 12 करोड़ ही आए थे, तो इस बार मान के चलें कि इसके दोगुने तो आएंगे ही।”

इस मौके पर राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा, “उत्तर प्रदेश राम और कृष्ण की जन्म स्थली होने के साथ ही गौतम बुद्ध और महावीर की स्थली भी है। यहां चंद्रशेखर आजाद, अशफाक उल्ला खां और राम प्रसाद बिस्मिल जैसे क्रांतिकारी भी पैदा हुए, जिन्होंने अपूर्व साहस, वीरता और बलिदान से देश को आजादी दिलाने में अपनी भूमिका निभाई।”

उप्र दिवस समारोह के दौरान राज्यपाल और मुख्यमंत्री ने खेल के क्षेत्र में प्रदेश का नाम रोशन करने के लिए पांच खिलाड़ियों को रानी लक्ष्मीबाई पुरस्कार और नौ खिलाड़ियों को लक्ष्मण पुरस्कार से सम्मानित किया। पुरस्कार के तौर पर उन्हें कांस्य प्रतिमा, प्रशस्ति पत्र और कुल 3,11,000 की धनराशि के चेक प्रदान किए गए। इस मौके पर प्रदेश में निवेश के लिए छह उद्यमियों को भी सम्मानित किया गया।

समारोह के दूसरे दिन 25 जनवरी को विभिन्न कार्यक्रम होंगे। वहीं 26 जनवरी को प्रदेश के कलाकार सांस्कृतिक व लोक कला से जुड़े कार्यक्रम प्रस्तुत करेंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleशाहीन बाग में जेएनयू के छात्र के देशद्रोही बयान पर बड़ा कदम
Next articleवैज्ञानिको ने बनाया विषाणु की खोज करने वाला उपकरण, विषाणुओं का शीघ्र पता लगाने में होगी मदद
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here