Uttar Pradesh: दुश्मन का कत्ल करने के लिए बाप-बेटे ने खुद कराई उसकी जमानत

0

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत में बाप-बेटे की जोड़ी पर अपने दुश्मन की हत्या करने के आरोप में मामला दर्ज किया गया है। मामले की खास बात यह है कि इन पिता-पुत्र ने अपने दुश्मन की हत्या करने के लिए पहले खुद ही उसकी जमानत भी कराई। नौगवां पकाड़िया गांव में रहने वाली शायरा बेगम ने बताया कि उसके पति फिरोज अली की बागपत के शब्बीर और उनके बेटे अमीर के साथ दुश्मनी थी। शायरा ने कहा, “बाप-बेटे ने मेरे पति को मारने के लिए कई बार कोशिश की, लेकिन सफल नहीं हुए। फिर करीब 4 महीने पहले मेरे पति किसी काम से बाहर गए थे और वे वापस ही नहीं लौटे। मैंने तलाश की तो पता चला कि उसके खिलाफ आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज करके जेल भेज दिया गया है। जब मैंने 29 जनवरी को अपने वकील के जरिए इस बारे में जानने की कोशिश की तो पता चला कि शब्बीर और आमिर ने मेरे पति के जेल जाने के 2 दिन बाद ही उसकी जमानत करा ली थी। इतना नहीं जेल से बाहर आते ही उन लोगों ने मेरे पति का अपहरण कर उसकी हत्या कर दी और लाश को कहीं ठिकाने लगा दिया।”

शायरा की शिकायत पर पुलिस ने जब कार्रवाई नहीं की तो उसने अदालत का दरवाजा खटखटाया। वहां मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट के आदेश के बाद पुलिस ने शब्बीर और उसके बेटे आमिर के खिलाफ अब मामला दर्ज किया है।

सुंगरही पुलिस थाने के एसएचओ श्रीकांत द्विवेदी ने बताया, “आरोपियों पर भारतीय दंड संहिता की धारा 364 और 506 के (आपराधिक धमकी) के तहत मामला दर्ज किया गया है। मामले में अभी जांच चल रही है।”

बता दें कि मृतक का शव अब तक बरामद नहीं हुआ है।

न्यूज सत्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleIndia-China Standoff: नई साजिश की तैयारी में ड्रैगन, LAC के पास चीनी सैनिकों को किया तैनात…
Next articleHealth tips: गंभीर दांत दर्द, इन घरेलू उपचारों से होगा फायदा
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here