Hong Kong विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की चुनाव व्यवस्था में सुधार होना आवश्यक है

0

चीनी राष्ट्रीय जन प्रतिनिधि सभा (एनपीसी) के वार्षिक सम्मेलन के एजेंडा को 4 मार्च की रात को सार्वजनिक किया गया, जिसमें हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की चुनाव व्यवस्था में सुधार करने संबंधित मसौदे पर विचार विमर्श करना एक महत्वपूर्ण एजेंडा है। हांगकांग में वर्तमान चुनाव प्रणाली में खामियां मौजूद हैं, जो प्रभावी रूप से गारंटी नहीं दे सकता है कि उम्मीदवार देशभक्तों के मानकों को पूरा करते हैं। हांगकांग में अराजकता फैलाने वाले व्यक्तियों तथा ‘हांगकांग स्वतंत्रता’ जैसे कट्टरपंथी अलगाववादी ताकतों ने चुनावों में हेरफेर करने और विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की शासन संस्थाओं में प्रवेश करने का मौका ढूंढा। उन्होंने हांगकांग स्वतंत्रता के विचार को फैलाने के लिए इन मंचों का उपयोग किया और विधान सभा के संचालन को बाधित किया। उनकी कार्रवाइयों से हांगकांग की सरकार में बड़ी मात्रा में अर्थतंत्र और जनजीवन से जुड़े मामले के निपटारे को बाधित किया गया, और हांगकांग समाज को भारी कीमत चुकानी पड़ी। इसके साथ ही हांगकांग को चीन की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक बड़ा खतरा बना दिया। इस तरह की अराजकता देश के कानूनी शासन में असहनीय है।

हांगकांग चीन का एक स्थानीय प्रशासनिक क्षेत्र है। इसकी चुनाव प्रणाली में सुधार स्वाभाविक रूप से केंद्र सरकार के नेतृत्व में किया जाना चाहिए। चीन में सर्वोच्च प्राधिकरण के रूप में एनपीसी संवैधानिक स्तर से हांगकांग विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की चुनाव प्रणाली पर निर्णय करती है, यह शक्ति ही नहीं, जिम्मेदारी भी है।

जनमत का पूरी तरह से सम्मान करने के लिए चीन की केंद्र सरकार ने कई संगोष्ठियां आयोजित कीं, इस दौरान हांगकांग के उद्योग और वाणिज्य, वित्त, व्यवसायों, श्रम, और विशेष प्रशासनिक क्षेत्र की सरकार के प्रतिनिधियों की राय को व्यापक रूप से सुना। हांगकांग में देशभक्तों का शासन संबंधी प्रणाली पर आम सहमति प्राप्त हुई।

हांगकांग की वापसी के बाद से लेकर अब तक एक देश दो व्यवस्थाएं, हांगकांग वासियों द्वारा हांगकांग का शासन और उच्च स्तरीय स्वशासन के सिद्धांतों को लागू किया जा रहा है। हांगकांग निवासी अभूतपूर्व लोकतांत्रिक अधिकारों और व्यापक स्वतंत्रता का आनंद उठा रहे हैं। इस बार एनपीसी ने हांगकांग की चुनाव व्यवस्था में सुधार करने का फैसला किया, जिसका उद्देश्य हांगकांग में लोकतांत्रिक व्यवस्था के अधिक स्वस्थ, ज्यादा सुचारु रूप से आगे विकास को सुनिश्चित करना है।

केवल एक मजबूत संस्थागत बाधक की स्थापना किये जाने से हांगकांग बेहतर अंतरराष्ट्रीय वित्तीय, व्यापार और शिपिंग केंद्र के रूप में अपना स्थान बनाए रखता है, प्रमुख आजीविका मुद्दों के समाधान में अधिक सक्षम होगा, और साथ ही साथ हांगकांग वासी ज्यादा बेहतर और शांतिपूर्ण भविष्य का आनंद उठा सकेंगे।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleNeha Kakkar: पति रोहन के साथ नेवी ब्लू कलर की साड़ी में पोज देते हुए नजर आ रही नेहा कक्कड़
Next articleVI प्रीपेड और पोस्टपेड पैक पर अंतर्राष्ट्रीय रोमिंग सेवाओं को कैसे सक्रिय करें
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here