कैंसर से जूझ रही ताहिरा को डॉक्टर ने दी थी ब्रेस्ट निकालने की सलाह, सुनकर हुआ था ये हाल

0
43

बॉलीवुड के एक्टर आयुष्मान की पत्नी ताहिरा कश्यप इन दिनों ब्रेस्ट कैंसर से जूझ रही है पिछले साल ही ताहिरा की कैंसर होने की खबर सामने आई थी।इस दौरान जहां आमतौर पर जहां लोग इस मर्ज को छिपाने की कोशिश करते हैं, ताहिरा ने खुद सोशल मीडिया पर अपनी कैंसर सर्जरी से लेकर बाल्ड लुक तक वाली तस्वीरें शेयर कीं।हाल ही में एक इंटरव्यू में पहुंची ताहिरा अपने कैंसर को लेकर बात की।

ताहिर ने कहा- अगर खुदा न खास्ता, यह मेरे साथ तीन-चार साल पहले हुआ होता तो मैं ऐसी हिम्मत न दिखा पाती। मैं भी कहती होती कि मेरे साथ ऐसा क्यों हुआ, नेगेटिव बातें सोचती, लेकिन मैं बुद्धिज़म फॉलो करती हूं और उससे मुझे इतनी ज्यादा ताकत मिलती है कि मुझे हिम्मत दिखाने के लिए अलग से कोशिश नहीं करनी पड़ी। मैं अंदर से यह हिम्मत महसूस करती हूं कि मैं इसे हरा सकती हूं। मुझे ऐसा लगता है कि मेरी राह में यह बाधा आई है, ताकि मैं इसे हराकर अपना बेहतर वर्जन बन सकूं।

कैंसर सरवाईवर ताहिरा ने अपने दुखी पलों की दांस्ता सुनाते हुए कहा- जिस दिन पता चला, तब पहले तो मुझे यकीन ही नहीं हुआ। मैं हंसे जा रही थी। मुझे समझ ही नहीं आ रहा था कि यह कैसे हो गया। आप कभी ऐसी चीज होने की उम्मीद नहीं करते हैं। मेरे पति शॉक में थे, लेकिन ऐसा एक भी पल नहीं था, जब मैं रोई हूं। मेरा सोचना था कि ठीक है, यह मुश्किल आई है तो हम इससे निबटेंगे। बस एक बार ऐसा हुआ, जब डॉक्टर ने बताया कि मेरा ब्रेस्ट निकालना पड़ेगा, जिसे वह मेरी पीठ के टिश्यूज से दोबारा कंस्ट्रक्ट कर देंगे, तब मेरी आंखों में आंसू आ गए, लेकिन मेरे पति ने कहा कि पागल हो? जब कैंसर का पता चला तब तो हंस रही थी।

ताहिरा ने आगे कहा- अब जब उसे निकाल रहे हैं तो रो रही हो। तब मुझे भी लगा कि हां, इसमें रोने की क्या बात है। बस यही एक पल था, जब मैं थोड़ी कमजोर पड़ी थी, लेकिन एक पार्टनर के तौर पर आयुष्मान बहुत ज्यादा सपॉर्टिव थे। अगर उस वक्त उन्होंने यह बात न कही होती तो शायद मैं भी दुखी फील करती। ऐसे में आपको अपने परिवार से बहुत सपॉर्ट चाहिए होता है। इसलिए, मैंने इस बारे में सोशल मीडिया में लिखा, क्योंकि मैं बताना चाहती थी कि जितने कपल हैं, पति हैं, उन्हें सपॉर्टिव होना चाहिए।

गौरतलब है कैंसर के कारण ताहिरा को अपने बाल कटवाने पड़े ऐसे में ताहिरा ने कहा- मैं तो खुद उसका उदाहरण हूं। मेरे लिए खुद लंबे बाल खूबसूरती का प्रतीक रहे हैं। मैंने हमेशा लंबे बाल रखे, मुझे उनसे बेहद लगाव था, लेकिन खुशी तब भी नहीं थी। इसीलिए लंबे या छोटे बालों से कुछ नहीं होता, यह आपकी अपनी एक्सेप्टेंस पर है। जब मेरे बाल लंबे थे, तब मैं आज के मुकाबले कहीं ज्यादा कॉम्प्लेक्स इंसान थी। जब यह गुगली मेरी तरफ आई और मुझे बाल कटाने पड़े, तो मैं अंदर से बहुत सुंदर महसूस कर रही थी। पता नहीं क्यों, पर मैं बहुत खुश थी। जब मुझे वजह नहीं समझ आती, तो मैं इसका श्रेय बुद्धिज़म को देती हूं, क्योंकि चार साल पहले अगर मेरे सिर पर बाल न होते, तो मैं अपने घर से बाहर तक न निकलती।

वही ताहिरा ने सोशल मीडिया पर अपने हर पल को शेयर किया था ताहिरा ने इस बारें में बात करेत हुए कहा- मुझे डॉक्टर ने बताया कि काफी औरतें मैमोग्राम्स के लिए आती ही नहीं हैं। अगर किसी को कैंसर हो जाए तो काफी औरतें दुनिया से छुप जाती हैं, जॉब्स छोड़ देती हैं, जीना ही छोड़ देती हैं, पर क्यों? मैंने इस दौरान कभी छुट्टी नहीं ली। मैं रोज ऑफिस जाती थी, काम करती थी। औरतों को यह नहीं सोचना चाहिए कि यह हो गया तो जिंदगी खत्म हो गई। इसीलिए मुझे लगा कि मुझे इस पर बात करनी है, मुझे ब्रेस्ट कैंसर के प्रति जागरुक करना है, मुझे यह मेसेज देना है कि खुद से प्यार करो। बाल हो या न हों आपको खुद से प्यार होना चाहिए। यह थोड़ा अजीब है, लेकिन मुझे अपने आप से वाकई ज्यादा प्यार तब हुआ, जब मेरे बाल नहीं थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here