बीजेपी का ये सहयोगी दल उसके खिलाफ चुनाव लड़ रहा है

0
484

जयपुर। त्रिपुरा के सत्तारूढ़ गठबंधन सहयोगी बीजेपी  और आईपीएफटी ने ऐलान किया है की वो तीन-स्तरीय पंचायत उप-चुनावों में एक-दूसरे के खिलाफ चुनाव लड़ेंगे ।

आपको बता दे की 3,207 ग्राम पंचायत सीटों के उपचुनाव, 161 पंचायत समितियों और 18 जिला परिषदों के लिए  30 सितंबर को चुनाव होने वाले है। आपको बता दे की मार्च में बीजेपी-आईपीएफटी पार्टी के एक साथ आने के बाद कई लोगों ने बड़े पैमाने पर इस्तीफा दे दिया था जिसके बाद इतने बड़े पैमाने पर उपचुनाव कराने की जरुरत पड़ी थी।

बीजेपी की पंचायत चुनाव समिति के अध्यक्ष और संसदीय मामलों के मंत्री रतन लाल नाथ ने उपचुनाव के लिए 3,155 उम्मीदवारों की पहली सूची की घोषणा की। नाथ ने कहा कि उम्मीदवारों की पहली सूची में 1,998 महिलाएं शामिल है। शेष सीटों के उम्मीदवारों की जल्द ही घोषणा की जाएगी।

वहीं बीजेपी के प्रवक्ता मृणाल कांती देब ने कहा कि अकेले चुनाव लड़ने से आईपीएफटी के साथ पार्टी के गठबंधन को प्रभावित नहीं होगा। देब ने कहा, “आईपीएफटी के साथ बीजेपी का गठबंधन विधानसभा चुनाव केंद्रित कर रहा था और त्रिपुरा में एक राज्य सरकार बनाने के लिए था। लोकसभा चुनाव एक अलग मुद्दा है।”

स्वदेशी पीपुल्स फ्रंट ऑफ त्रिपुरा के महासचिव मंगल देबर्र्मा ने पुष्टि की कि उनकी पार्टी उप-चुनावों में अलग-अलग चुनाव लड़ेंगे। देबर्र्मा ने कहा, “वे [बीजेपी] ने हमें पंचायत उप-चुनावों के लिए गठबंधन के बारे में कुछ भी सलाह नहीं दी थी तो, हमें अकेले लड़ने का फैसला करने के लिए मजबूर होना पड़ा। उन्होंने उम्मीदवारों की पहली सूची की घोषणा करने से पहले कल [गुरुवार] हमारे राष्ट्रपति एनसी डेबर्र्मा के साथ चर्चा की। लेकिन हम अलग-अलग चुनाव लड़ रहे है और उम्मीदवारों को एक दूसरे के खिलाफ मैदान में लाएंगे। “

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here