ब्रिटेन के इस तालाब में छिपा था बडा रहस्य, तूफान के बाद हुआ सच का पर्दाफाश

0
84

अपने शुरुआती दौर से लेकर अभी तक पृथ्वी में कई बार बदलाव आ चुका है, इनमें कुछ बदलाव सकारात्मक थे तो कुछ नकारात्मक। वो कहते हैं न, बदलाव ही प्रकृति का नियम है। लेकिन लगातार बदलावों को आगोश में ढलती प्रकृति में आज भी कुछ ऐसे अवशेष पाए जाते हैं, जो पौराणिक काल के जनजीवन से संबंधित कई रहस्यों का खुलासा करते हैं। कुछ इसी प्रकार के रहस्यों में शामिल है गीज़ा पिरामिड,  चिली द्वीप पर स्थित मोआई मूर्तियां हों या फिर मिस्र से निकलने वाले पौराणिक काल के अवशेष।

लेकिन, हाल ही में तूफान से ग्रसित ब्रिटेन के एक तालाब में जो सच सामने आया है, उसने वैज्ञानिकों को पुरानी कहानियों पर मंथन करने के लिए मजबूर कर दिया है। दरअसल, यह घटना ब्रिटेन के क्वीनलैंड की है, जहां स्थित एक तालाब से पानी के कम होने पर लोगों को रेत पर अजीबोंगरीब चीजें देखने को मिलीं। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि हम देखकर हैरान रह गए, क्योंकि तालाब की रेत पर 7000 वर्ष पुराने वुडलैंड जंगल के अवशेष थे। इस जंगल का जिक्र अभी तक सिर्फ कहानियों में ही किया जाता था।

मीडिया रिपोर्ट में बताया गया है कि इस तालाब में पानी कम हो जाने पर हजारों साल पुराने जंगली पेडों के अवशेष नजर आए। अनुमान लगाया जा रहा है कि, 400 मीटर के दायरे में फैले ये अवशेष कई हजारों साल पुराने हो सकते हैं। इतना ही नहीं, कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि 7000 साल पुराने इस जंगल का एक बडा हिस्सा अब भी इसी तालाब की गहराई में दबा हुआ है। यह आदिमानव काल से संबंधित हो सकते हैं, जिसे कई लोग बीस्ट ऑफ ईस्ट कहने लगे हैं।

एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि, कुछ इसी प्रकार का नजारा 40 साल पहले भी सामने आया था, उस समय कैमरे के अभाव के कारण उस पल को कैद नहीं किया जा सका। लेकिन अब इसे दोबारा देखकर खुशी महसूस हो रही है। हालांकि, इससे पहले भी कई बार इस तालाब के अंदर के जंगल की मौजूदगी के कयास लगाए जा चुके हैं। सन् 1971 में इसी तालाब के निकटवर्ती दायरे से जंगली बोर और हिरणों की हड्डियां बरामद की गईं थीं। लेकिन एक साथ इतनी मात्रा में पेडों के अवशेष निकलने से संदेह सच में बदलता नजर आ रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here