उत्तर प्रदेश में शिक्षकों को बिना दाढ़ी बनाए और चप्पल पहन कर आने पर रोक

0
582

जयपुर। उत्तर प्रदेश के कृषि उत्पादन आयुक्त एवं बेसिक शिक्षा विभाग के नए अपर मुख्य सचिव डॉ. प्रभात कुमार ने शिक्षकों के काम के पैरामीटर तय किए है। सरकारी स्कूलों को प्राइवेट स्कूलों के सामान बनाने की पहल में इन नए पैरामीटर लागु किए जाएगें। इसके तहत अब शिक्षकों को बिना दाढ़ी बनाए और चप्पल पहन कर  आने पर रोक लगा दी गई है।

कुमार ने सरकारी स्कूलों को अलग पहचान देने के लिए 5 बिंदु कार्यक्रम तैयार किया है इसके अलावा हर शिक्षक को 4 आई के मानक पर खरा उतरना होगा और जो शिक्षक इन मानक पर खरा नहीं उतरेंगा उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया जायेगा। शिक्षकों के 4 आई मानक इंटिग्रिटी, इंडस्ट्री , इंटेलीजेंस और  इंडिविजुअलिटी बताई वही स्कूलों की बेहतर संस्कृति को 5 बिंदुओें का फॉर्मूला क्लीनीनेस (साफ-सफाई), पोलाइटनेस (नम्र व्यवहार), आर्डरलीनेस (सुव्यवस्था), पंक्चुअलिटी (समय का पाबंदी) और ड्यूटीफुलनेस (कर्तव्यनिष्ठ)।

 

डॉ. कुमार ने गुरूवार को ही अपना पद भार ग्रहण किया उसके बाद अफसरों से बैठक के दौरान उन्होंने ये सुझाव दिए उन्होंने कहा की अगर हमें निजी स्कूलों से आगे निकलना है तो हमें हर स्तर पर बदलना होगा और स्कूलों का माहौल बदलना होगा तभी बदलाव देखा जा सकता है इसके आलावा उन्होंने शिक्षको की नियुक्ति में ठेकेदारी प्रथा ख़त्म करने को कहा और मिड डे मील पर अलग से बैठक करने को कहा।

इसके अलावा कुमार ने आदेश दिए की वो शिक्षा विभाग में किसी भी प्रकार का भ्रष्टाचार नहीं सहेंगे और अगर किसी भी अधिकारी ने किसी  शिक्षक की फाइल पैसे की वजह से रोकी तो उस अधिकारी की खैर नहीं होगी। इसके आलावा कुमार ने आदेश दिए की सभी शिक्षकों को उनकी बकाया राशि चुकाई जाए। शिक्षकों को तनख्वाह समय पर मिले और  उनकी छुट्टी समय से स्वीकृत हो।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here