जापान में एमिशन और फ्यूल इकोनॉमी टेस्ट में झूठ का लिया गया सहारा, जानिए पूरा मामला

0
53

जयपुर। जापान ऑटोमोबाइल सेक्टर में एक बड़ा बाजार माना जाता रहा है। ऐसे में अनेक बड़े और छोटे वाहन निर्माता कंपनियां जापान में अपना बाजार बढ़ाना चाहते है। अब हाल ही में जापान में क्वालिटी प्रोसेस के दौरान एमिशन टेस्ट में कंपनियों द्वारा धोखा करने की बात सामने आई है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि जापान के ट्रांसपोर्ट मंत्रालय ने हाल ही में कहा है कि, सुजुकी, माज्दा और टोयोटा ने क्वालिटी प्रोससे के दौरान एमिशन टेस्ट में धोखा करने की बात स्वीकारी है। इन सभी कंपनियों ने अपने वाहन टेस्ट अनुचित ड्राइविंग कंडीशन में किए थे। अब माना जा रहा है कि ट्रांसपोर्ट मंत्रालय इन कंपनियों के खिलाफ कड़ा एक्शन लेने का विचार कर रही है।

हालांकी, कंपनियों ने ऐसे वाहनों को रिकॉल करने का फैसला नहीं किया है। ये मामले सामने आने के बाद सुजुकी के प्रेसिडेंट तोशिहीरो सुजुकी ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस कर कहा कि, बड़ी मात्रा में हमारे प्रोडक्ट गलत तरीके से प्रोसेस किए गए है और हम इस मामले को काफा गंभीरता से ले रहे है।

आपको बता दें कि सुजुकी ने साल 2012 से अपनी करीब 12,819 यूनिट्स में से 6401 यूनिट्स पर गलत टेस्ट किए है। वही माज्दा ने 2014 से 1875 यूनिट्स में से 72 पर गलत तरीके से टेस्ट किए है। आपको बता दें कि इससे पहले निसान ने भी एमिशन और फ्यूल इकोनॉमी टेस्ट में झूठ का सहारा लिया था।

जापान के ट्रांसपोर्ट मंत्रालय ने सभी कंपनियों को टेस्ट के रिजस्ट सुरक्षित रखने को कहा है। इसके अलावा मंत्रालय कुछ ऐसे कदम उठाए जाने पर विचार कर रही है जिससे आगे इन टेस्टों के नतीजों क बदला ना जा सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here