डिलीवरी के बाद अपनी डाइट का रखें खास ख्याल, शिशु के बेहत्तर विकास में मिलेंगी मदद

0

जयपुर।गर्भावस्था के दौरान डाइट का खास ध्यान रखना बेहद आवश्यक होता है।क्योंकि इस दौरान होने वाले हार्मोनल बदलाव के कारण महिलाओं की इम्यूनिटी क्षमता काफी कमजोर हो जाती है।जिससे शरीर में कई प्रकार के रोगों का खतरा बढ़ जाता है।वहीं डिलीवरी के बाद भी पोषक तत्वों का सेवन करना आवश्यक है।डिलीवरी के बाद स्तनपान करवाने से शिशु को आवश्यक पोषण मिलता है।

इसलिए स्तनपान करवाने वाली महिलाओं को प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन और विटामिन जैसे पोषक तत्व को आवश्यकता अधिक होती है।इससे नवजात शिशु को भी आवश्यक पोषण मिलता है।ऐसे में डिलवारी के बाद प्रोटीन की आवश्यकता की पूर्ति करने के लिए डाइट में अंडे, पनीर और दूध को शामिल कर सकती है।

इससे स्तनपान करवाने महिला के साथ शिशु को कैल्शियम और फोस्फेट जैसे पोषक तत्व प्राप्त होते है।फोलिक एसिड नवजात शिशु के मस्तिष्क और रीढ़ की हड्डी का विकास करने में मदद करता है।साथ ही इससे लाल रक्त कोशिकाओं और श्वेत रक्त कोशिकाओं के उत्पादन में भी मदद मिलती है।

इसलिए डिलीवरी के बाद महिलाओं को फोलिक एसिड की प्राप्ति के लिए डाइट में पत्तेदार हरी सब्जियां, फलियां, ड्राई फ्रूट्स को शामिल करना आवश्यक है।शिशु के ऊतक की वृद्धि, दांत और हड्डी के विकास के लिए विटामिन-डी की आवश्यकता होती है।

इसके लिए शिशु को हल्की गुनगुनी धूप के स्तनपान करवाने महिलाओं को डाइट में अंडे की जर्दी, संतरे के जूस, सैल्मन और गाय के लो-फैट दूध को डाइट में शामिल करना चाहिए।इसके अलावा शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता केा ​बढ़ाने के लिए डाइट में विटामिन—सी युक्त आहार नींबू, आंवला ब्रोकोली और खट्टे फलों के रस का सेवन करें।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here