मशहूर ग्लैशियर को बचाने के लिए स्विट्जरलैंड कर रहा है जमीन आसमान एक

मशहूर ग्लैशियर को बचाने के लिए स्विट्जरलैंड कर रहा है जमीन आसमान एक पिछले 157 सालों के दौरान यह हिमखंड करीब 3 किलोमीटर तक पीछे हट गया है

0
60

जयपुर। दुनिया में जिस तेजी से ग्लोबल वार्मिंग का प्रकोप बढ़ रहा है, उसका ताजा नमूना तो हम सब इन गर्मियों में देख ही रहे है। तेजी से गर्म हो रही धरती धीरे धीरे कई प्राकृतिक आपदाओ को दावत दे रही है। इसी कड़ी में दुनियाभर के बर्फीले ग्लैशियर तेजी से पिघल रहे हैं। तमाम वैज्ञानिक और पर्यावरणविद् ग्लोबल वॉर्मिंग के दुष्परिणामों को लेकर हजारों बार यह चेतावनी जारी कर चुके हैं कि इस वजह से ध्रुवों पर बर्फ पिघल रही हैं।

इस लेख को भी देख लीजिए:- नये किस्म का परमाणु बंध खोजा गया, मौजूद हैं कई अनोखी…

मगर लोगों पर कोई खास असर अब तक तो पड़ता हुआ नजर नहीं आ रहा है। मगर स्विट्जरलैंड सरकार ने देर आए दुरुस्त आए कि तर्ज पर आखिरकार नींद से जागने का फैसला कर ही लिया है। दरअसल स्विट्जरलैंड का मशहूर मोर्टारथ्स ग्लैशियर पिछले कुछ सालों में बहुत तेजी से पिघलने लग गया है। यही वजह है कि स्विस सरकार ने तुरंत इसे बचाने के लिए हर संभव प्रयास शुरू कर दिये हैं।

गौरतलब है कि यहां पर सारी दुनिया से पर्यटक आते हैं। मगर पिछले कुछ सालों में गर्मी बढ़ने से यह ग्लैशियर पिघलने लग गया है। जांच में पाया गया है कि यह ग्लैशियर पिछले 157 सालों में लगभग 3 किलोमीटर पीछे हट गया है। हालांकि यहां के आसपास के निवासियो को अब यह डर सता रहा है कि कुछ सालो में तो यह पूरा ग्लैशियर ही पिघल कर खत्म हो जाएगा।

इस लेख को भी देख लीजिए:- मंगल ग्रह पर देखी गई महात्मा बुद्ध की विशालकाय मूर्ति

यूट्रैक्ट यूनिवर्सिटी के मशहूर पर्यावरण वैज्ञानिक योहान्नस उरलमन्स ने स्विस सरकार के सामने इस ग्लैशियर बचाने की एक हैरतअंगेज योजना रखी है। हालांकि यह योजना काफी चकित कर देने वाली है। वैज्ञानिकों की माने तो अब इसे बचाने का केवल यही एक तरीका रह गया है। दरअसल ग्लैशियर पर कुछ सेंटीमीटर मोटी कृत्रिम बर्फ की एक परत चढ़ाई जाएगी, जो सूरज की तेज किरणों से इस हिमखंड की रक्षा करेगी। अंदाजा लगाया गया है कि ऐसा करने से अगले 20 साल में ग्लैशियर पिघलने के बजाए लगभग 800 मीटर और लंबा हो जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here