सुप्रीम कोर्ट ने प्रवासी मुद्दे पर केंद्र से पूछा: टिकट, भोजन का भुगतान कौन कर रहा?

0

सुप्रीम कोर्ट ने राष्ट्रव्यापी बंद के दौरान प्रवासी श्रमिकों की दुर्दशा पर गुरुवार को केंद्र से तीन सवाल किए हैं। अदालत ने पूछा कि क्या प्रवासियों ने अपने टिकट के लिए भुगतान किया? ट्रेनों में उनके भोजन का भुगतान किसने किया और कौन सुनिश्चित कर रहा है कि प्रवासी भूखे नहीं हैं? न्यायमूर्ति अशोक भूषण, न्यायमूर्ति एस. के. कौल और न्यायमूर्ति एम. आर. शाह की पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से सवाल पूछे, आपने अभी भी हमें सूचित नहीं किया है कि उनके टिकट के लिए कौन भुगतान कर रहा है।

मेहता ने उत्तर दिया कि या तो उन्हें भेजने वाले राज्य या जहां वे पहुंच रहे हैं वे राज्य भुगतान कर रहे हैं, क्योंकि अंतर्राज्यीय समझौता हुआ है। पीठ ने इसके बाद कहा, राज्यों के बारे में क्या? प्रवासियों को कैसे प्रतिपूर्ति मिलने वाली है? प्रवासियों को यह नहीं पता होगा कि किस राज्य को भुगतान करना है।

पीठ ने कहा कि हो सकता है कि प्रवासियों को पता नहीं हो कि किस राज्य से प्रतिपूर्ति कैसे मिलेगी और उन्हें उपलब्ध परिवहन के बारे में भी नहीं पता हो। पीठ ने कहा, एक समान नीति बनाने की आवश्यकता है।

अदालत ने माना कि अगर सभी राज्यों के लिए तंत्र अलग-अलग है (कुछ स्थितियों में प्रवासियों को भेजने वाला राज्य भुगतान करेगा, कुछ स्थिति में जहां वे पहुंचे हैं, वे राज्य भुगतान करेंगे), तो यह भ्रम पैदा करने वाली बात होगी।

इस पर मेहता ने जवाब दिया, यह सभी राज्यों के बीच तय किया गया है।

न्यायमूर्ति कौल ने मेहता से पूछा, आप यह कैसे सुनिश्चित कर रहे हैं कि कोई भी प्रवासियों को भुगतान करने को नहीं कहेगा या उन्हें परेशान नहीं करेगा? हम जो कह रहे हैं, वह यह है कि प्रवासियों को भुगतान की चिंता नहीं होनी चाहिए।

पीठ ने कहा कि एक स्पष्ट नीति होनी चाहिए कि उनकी यात्रा के लिए कौन भुगतान करेगा।

मेहता ने अदालत को बताया कि एक मई से लेकर 27 मई के बीच 91 लाख प्रवासियों को स्पेशल श्रमिक ट्रेनों व सड़क परिवहन के जरिए उनके गंतव्य तक पहुंचाया गया है। इस दौरान 3,700 विशेष रेलगाड़ियों का उपयोग किया गया है।

पीठ ने खाद्य आपूर्ति से जुड़े मुद्दों पर भी केंद्र को फटकार लगाई। पीठ ने पूछा, भारतीय खाद्य निगम के पास खाद्य अधिशेष (फूड सरप्लस) होने के साथ, इन लोगों को भोजन की आपूर्ति की जा रही है या नहीं? लोगों के बीच भोजन की कमी क्यों होनी चाहिए? .. हम स्वीकार करते हैं कि एक ही समय में सभी को परिवहन उपलब्ध कराना संभव नहीं है, लेकिन भोजन और आश्रय तो तब तक दिया जाना चाहिए, जब तक उन्हें परिवहन नहीं मिल सकता। कौन इसे प्रदान कर रहा है?

मेहता ने कहा कि उन्हें भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है। उन्होंने कहा, यह एक अभूतपूर्व संकट है और हम अभूतपूर्व उपाय कर रहे हैं।

पीठ ने कहा कि सरकार उपाय कर रही है, लेकिन फंसे प्रवासियों की संख्या को देखते हुए कुछ ठोस कदम उठाए जाने की जरूरत है।

शीर्ष अदालत ने 26 मई को प्रवासी श्रमिकों की दुर्दशा का संज्ञान लिया था और केंद्र और राज्यों से उन्हें परिवहन, भोजन और आश्रय तुरंत मुफ्त देने को कहा था।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleलॉकडाउन 5.0 पर मंथन! पीएम आवास पर हुई मोदी और शाह की मीटिंग….
Next articleगर्मी में बालों को पोषण देने के लिए, आप करें घर पर बनाए आयुर्वेदिक तेल का इस्तेमाल
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here