कार ड्राइविंग से जुड़ी ऐसी 5 गलतफहमियां, जिसे लोग समझते है सच

0
90

जयपुर। भारत में कार ड्राइविंग को लेकर लोगों के बीच कई सारी गलफहमियां है जिसे लोग सच मान उसे फॉलो करते रहते है पर कई बार ये गलतफहियां कार के लिए और ड्राइवर के लिए खतरनातक साबित हो जाता है। देश में खासकर नए कार को ड्राइव करते समय कई ऐसी अवधारणाएं बना लेते जो बिल्कुल भी सच नही होते है।

लोगो के बीच ऐसी धारणा बन गई है कि कार को ड्राइव करने से पहले कार के इंजन को गर्म करना आवश्यक होता है। जबकी यह बिल्कुल गलत है। हमने इसके लिए ऑटो एक्सपर्ट मुराद अली से बात की तो उन्होने बताया कि, आज के समय में ज्यादातर कारों में फ्यूल इंजेक्शन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाता है, जबकी पहले के समय के कारों में इंजन कार्बुरेटर का इस्तेमाल किया जाता था जिसे तापमान के आधार पर एयर/फ्यूल मिक्सचर को एडस्ट नही कर पाता था। पर अब फ्यूल इंजेक्शन के साथ बिल्कुल भी ऐसा नही होता है।

इसके अलावा आमतौर पर माना जाता है कि कार की स्पीड धीमी होने पर एयर कंडीशनर के इस्तेमाल पर ज्यादा ईंधन खर्च होता है। हालांकी स्पीड ज्यादा होने पर विंडो को नीचे रखने से फ्यूल एफिशियंसी घट जाती है। ऐसे में बेहतर यह होता है कि कार को हाई-स्पीड पर एसी को ऑन रखकर चलाया जाए।

इसके अलावा लोगों के बीच यह भी अवधारण है कि सुबह के वक्त तापमान के ठंडा होने से कार में ईंधन कम खपत होती है लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नही है। इसके अलावा लोगो का यह भी मानना है कि पेट्रोल पंप पर अगर सुबह के वक्त पेट्रोल  लिया जाए तो फ्यूल ज्यादा मिलता है जो बिल्कुल भी सच नही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here