Student करा सकेंगे इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी का पेटेंट

0

गुजरात सरकार के शिक्षा विभाग द्वारा राज्य स्तरीय आईपी (इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी) सुविधा केंद्र शुरू किया गया है। इसके जरिए विभिन्न स्टार्टअप अपने इनोवेशन, आविष्कारों और इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी को पेटेंट करा सकेंगे। केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने गुरुवार को इस सुविधा का उद्घाटन किया। केंद्रीय मंत्री निशंक ने बताया कि, “इस पहल के माध्यम से 5 वर्ष की अवधि में निष्पादन हेतु एक 200 करोड़ रुपए का छात्र इनोवेशन कोष बनाया गया है। इससे न केवल 1000 इनोवेटर्स को सपोर्ट मिलेगा, बल्कि प्रतिवर्ष 500 छात्र स्टार्टअप को संचालित करने में मदद की जाएगी। इससे गुजरात के लगभग 60 विश्वविद्यालयों के छात्र-छात्राएं लाभान्वित होंगे।”

डॉ. निशंक ने कहा कि, “मुझे उम्मीद है कि राज्य स्तरीय इंटेलेक्चुअल प्रॉपर्टी (आईपी) सुविधा केंद्र के शुभारंभ के साथ, अरबों डॉलर के स्टार्टअप्स (यूनिकॉर्न) मूल्य के देशों की रैंकिंग में भारत को नंबर 1 स्थान पर पहुंचने में मदद करेगी।”

“2014 में भारत में केवल 4 स्टार्टअप यूनिकॉर्न क्लब में थे, लेकिन आज 30 से अधिक स्टार्टअप 1 बिलियन का आंकड़ा पार कर चुके हैं। वर्ष 2020 में कोरोना के कठिन समय में भी हमारे 11 स्टार्टअप यूनिकॉर्न क्लब में शामिल हुए हैं।”

निशंक ने स्टार्टअप्स के लिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति में दिए गए प्रावधानों के बारे में बताते हुए कहा, “राष्ट्रीय शिक्षा नीति स्टार्टअप्स, अनुसंधान और इनोवेशन के लिए बूस्टर के रूप में कार्य करेगी। भारत अपने अनुसंधान और इनोवेशन के लिए विश्व-प्रसिद्ध रहा है और जिससे संपूर्ण विश्व लाभान्वित होता रहा है। भारत को पुन अपने उसी कद और प्रतिष्ठा को प्राप्त करने के लिए, नई शिक्षा नीति का उद्देश्य शैक्षिक क्षेत्र में अनुसंधान संस्कृति को निर्मित एवं विकसित करना है। जिस दिन हमारे विद्यार्थी अपने पेटेंट के साथ वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा करना शुरू कर देंगे, भारत पुन विश्व गुरु के रूप में अपने स्वर्णिम गौरव को प्राप्त कर लेगा। मुझे पूरा विश्वास है कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति और समर्पित स्टार्ट-अप नीति जैसे एसएसआईपी को तैयार करने और लागू करने के लिए जिस प्रकार के कार्य और प्रयास किए जा रहे हैं उससे, नवोदित उद्यमियों का भविष्य उज्‍जवल दिखता है।”

इसके आगे उन्होंने कहा कि हमें अर्थव्यवस्था में स्टार्टअप के महत्व को कम नहीं मानना चाहिए, वे छोटी कंपनियां हो सकती हैं, लेकिन वे किसी देश के समग्र आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। यह स्टार्टअप्स ही हैं जो नौकरियों का सृजन करती हैं, जिसका अर्थ है ज्यादा रोजगार और ज्यादा रोजगार का मतलब है और बेहतर अर्थव्यवस्था। इस अवसर पर गुजरात सरकार के शिक्षा मंत्री भूपेंद्रसिंह चुडासमा भी उपस्थित थे।

news source आईएएनएस

SHARE
Previous articleFarmers Protest: सरकार और किसानों के बीच वार्ता जारी, क्या कृषि मंत्री से बन रही है बात…
Next articleआस्ट्रेलिया में मिले आत्मविश्वास को आगे भी जारी रखना चाहता हूं : Siraj
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here