पराली के धुएं से हो रही हैं कई गुना ज्यादा मौतें : Gopal rai

0

कोरोना अटैक में पराली के धुएं ने जो जहर घोला है, उससे दिल्ली के लोगों के समक्ष जान का संकट खड़ा हो गया है। दिल्ली सरकार के मुताबिक बीते 15 दिनों में इसके कारण कई लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी है। दिल्ली में प्रदूषण का स्तर खतरनाक स्थिति में पहुंचने में सबसे बड़ी भूमिका पंजाब, हरियाणा में जलाई गई पराली के धुएं की है। इस धुएं के कारण लोगों को सांस लेने में दिक्क्तों का सामना करना पड़ रहा है। पराली के धुएं ने दिल्ली के प्रदूषण स्तर को खतरनाक स्तर पर पहुंचाया, जिसकी वजह से दिल्ली के लोगों को सांस लेने में की तकलीफ में काफी बढ़ोतरी हो गई।

दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा, “दिल्ली के अंदर कोरोना के केस पहले भी आ रहे थे, लेकिन पिछले 15 दिनों में जब पराली के जलाने की घटनाएं बढ़ीं, उससे दिल्ली के लोगों के सामने जान का संकट खड़ा हो गया है। अगर हम नासा के चित्र को देखें तो ज्यों ज्यों पराली जलाने की घटनाएं बढ़ती गईं, दिल्ली की हवा जहरीली होती गई। हम सबको पता है कोरोना का अटैक हमारी सांसों पर होता है। कोरोना के अटैक में पराली के धुएं ने जिस तरह से जहर घोला उससे आज दिल्ली के लोगों के सामने जान संकट खड़ा हो गया है।”

दिल्ली सरकार के मुताबिक ऐसी स्थिति में न केवल दिल्ली बल्कि केंद्र सरकार व अन्य सभी लोगों की नैतिक जिम्मेदारी बनती है कि स्थाई समाधान की ओर कदम बढ़ाएं, क्योंकि साल दर साल यह समस्या बढ़ती जा रही है और हम इसको टालते जा रहे हैं।

दिल्ली के अंदर पूसा के साथ मिलकर के दिल्ली सरकार ने बायो डी कंपोजर बनाया है। इसका उपयोग पराली को जलाने की बजाय गलाने के लिए किया गया। वह काफी सफल रहा है। रविवार को दिल्ली सरकार ने केंद्र सरकार द्वारा गठित केंद्रीय वायु गुणवत्ता प्रबंधन समिति कमीशन के सामने एक याचिका दाखिल की।

गोपाल राय ने कहा, “याचिका में हमारा यही निवेदन है कि जिस तरह से दिल्ली में पराली के समाधान को लागू किया गया है, ऐसा ही अन्य राज्यों में भी लागू किया जाए। केंद्र सरकार पराली हटाने के लिए मशीन खरीदने हेतु सब्सिडी देती है। बावजूद इसके फिर भी किसान को अपनी जेब से पैसा डालना पड़ता है। लेकिन जितनी सब्सिडी सरकार दे रही है उससे आधे पैसों में ही खेतों में यह छिड़काव किया जा सकता है और इसमें किसानों को अपनी जेब से पैसा लगाने की जरूरत भी नहीं है। जहां तक प्रशिक्षण का सवाल है दिल्ली सरकार और पूसा इंस्टीट्यूट प्रशिक्षण देने के लिए तैयार हैं।”

गोपाल राय ने कहा कि, “पराली जलाने की जगह अगर इसे गला दिया जाए तो न केवल प्रदूषण से बचा जा सकता है, बल्कि साथ ही साथ पराली गलने से खेत में बेहतरीन खाद का निर्माण भी होता है। जिससे खेत की उर्वरक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा साल दर साल प्रदूषण जो एक ला-इलाज बीमारी है, इसे जड़ से खत्म किया जा सकता है। हमने यह याचिका इसी उम्मीद से लगाई है कि हमारे पास आज एक सस्ता और कारगर उपाय उपलब्ध है। इसको लेकर कमीशन अभी से निर्णय ले और सभी राज्य सरकारों के लिए इसे आवश्यक बनाया जाए ताकि अगली बार के लिए पराली की समस्या को जड़ से खत्म किया जा सके।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleAUS vs IND, ODI Series : इन तीन भारतीय खिलाड़ियों का प्लेइंग XI से कट सकता है पत्ता , जानिए आखिर क्यों
Next article2021 कावासाकी निंजा ZX-10R और निंजा ZX-10RR का अनावरण किया गया
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here