स्टीफन हॉकिंग की ज़िंदगी में 21 साल की उम्र में आया था तूफान, यह महिला बनी जीने का सहारा

0
142

सदी के सबसे महानतम वैज्ञानिक स्टीफन हॉकिंग का 76 की उम्र में निधन हो गया। वे लंबे वक्त से गंभीर बीमारी से ग्रस्त थे। आपको बता दे कि स्टीफन हॉकिंग की गिनती विश्व के महान भौतिक वैज्ञानिकों में की जाती है। नोबल पुरस्कार से सम्मानित स्टीफन 8 जनवरी, 1942 को ब्रिटेन में पैदा हुए थे।

शारीरिक अक्षमता के बावजूद वे विश्व के सबसे महान वैज्ञानिक माने गए है। स्टीफन का जीवन हम सब के लिए एक प्रेरणा है। उनकी थ्योरी और किताबों पर कई फिल्में भी बनाई जा चुकी है। साल 2014 में रिलीज हुई फिल्म ‘द थ्योरी ऑफ एवरीथिंग’ में स्टीफन के असल जीवन को सिनेमा के पर्दे पर साकार किया गया था।

इस फिल्म में उनके जन्म, पढ़ाई, कॉलेज के दिनों से लेकर लोकप्रिय वैज्ञानिक बनने तक के सफ़र को बेहद खूबसूरत तरीके से दिखाया गया है। फिल्म में उनके जीवन के कुछ अनछुए पहलुओं को भी दिखाया गया, जिनमें उनका पहला प्यार भी शामिल था। दरअसल आपको बता दे कि कॉलेज के दिनों में स्टीफन को जेन वाइडली नामक लड़की से प्यार हो जाता है।

1963 में स्टीफन महज 21 साल के थे, तभी उन्हें एक गंभीर बीमारी हो गई थी। इस वजह से उनके शरीर में लकवा आ गया और अधिकतर अंगों ने धीरे-धीरे काम करना बंद कर दिया था। इस बीमारी से पीड़ित लोग सामान्य तौर पर 2 से 5 साल तक ही जीवित रह पाते हैं, लेकिन स्टीफन ने जेन के प्यार और अपनी दृढ़ इच्छा शक्ति के दम पर मौत को भी हराया था। 21 साल की उम्र में जब स्टीफन बीमारी की वजह से निराश होने लगे तब जेन ने ही उनका हाथ थामा था। जेन एक आदर्श पत्नी का उदाहरण है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here