BJP मुख्यालय में लगी भगवान श्रीराम की प्रतिमा, नड्डा ने किया उद्घाटन

0

भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश (जेपी) नड्डा लखनऊ के दो दिनी दौरे पर हैं। शुक्रवार को उन्होंने भाजपा मुख्यालय में भगवान श्रीराम की प्रतिमा का उद्घाटन किया। इस दौरान उनके साथ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, प्रदेश प्रभारी राधा मोहन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह व महामंत्री संगठन सुनील बंसल भी मौजूद रहे। इससे पहले भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने गोमती नगर विस्तार स्थित सीएमएस के सभागार में आयोजित बूथ अध्यक्ष सम्मेलन को संबोधित किया। यहां उन्होंने कहा कि, “कार्यकर्ताओं में उत्साह, उमंग बता रहा है कि उत्तर प्रदेश का भविष्य आगे भी उज्जवल है। क्योंकि राजनीति में विचारों की पूंजी लेकर जो आगे बढ़ता है, वह सफल होता है, भारतीय जनता पार्टी विचारों, सिद्धांतों को लेकर आज तक चल रही है, इसलिए लद्दाख से लेकर केरल तक और पश्चिम से लेकर पूरब तक भाजपा का डंका बज रहा है। ”

लखनऊ शहर और ग्रामीण बूथ कार्यकर्ताओं के बीच उन्होंने कहा कि, “जिसे भाजपा में काम करने का मौका मिलता है वह भाग्यशाली है। सभी दल परिवारवाद चलाते हैं भाजपा में कार्यकर्ता नेता बनता है। प्राधनमंत्री नरेंद्र मोदी और योगी आदित्यनाथ साधारण परिवार से हैं। जिन्हें यह पद मिला है। भाजपा डेमोक्रेटिक पार्टी है। वामपंथ कहता है कि पेट की भूख सबसे बड़ी है। भाजपा शरीर, मन, बुद्धि सबसे आत्मसात होकर आगे बढ़ने की बात करती है। यह संतुष्टि है।”

कहा कि, “बूथ स्तर पर वोटरों की संख्या नौ सौ से एक हजार के बीच होती है। यहां एक-एक कार्यकर्ता को वोटर लिस्ट के एक पन्ने पर दर्ज तीस नामों से व्यक्तिगत संपर्क करना होगा। उनके सुख-दुख में शामिल होने के साथ ही उनके साथ भोजन करना होगा। यही नहीं केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं के बारे में बताएं और लाभ दिलवाएं। यह काम अभी से शुरू करना है।”

उन्होंने प्रशंसा करते हुए कहा कि एक दिन की सूचना पर ढाई हजार से अधिक बूथ अध्यक्ष एकत्रित होना उनके जोश व पार्टी के प्रति समर्पित निष्ठा को बताता है। समाज में अच्छा काम करने वाले को गमछा और सॉल देकर सम्मानित करें। हर माह मन की बात में कार्यकर्ता स्वयं तो शामिल हो, साथ ही अपने बूथ के हर वर्ग को शामिल करें।

राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कहा कि हर माह होने वाली बैठक में मंडल स्तर का पदाधिकारी अपने सेक्टर संयोजक, बूथ अध्यक्ष के साथ ही समाज के लोगों के साथ एकत्रित हो। हर व्यक्ति अपने घर से दो दो रोटी लेकर आए और अपने घर का खाना न खाकर दूसरे साथी के घर से लाए भोजन करे। इससे संगठन जहां मजबूत होगा, वहीं आपसी भाईचारा और बढ़ेगा।

बूथ अध्यक्ष के सम्मेलन को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भाजपा ने अपने सिद्धांतों, राष्ट्रीय निष्ठा के बल पर राजनीतिक दलों के सामने नए मानक तय कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में जहां भी वाद शब्द जुड़ता है, वह राष्ट्र को कमजोर करता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री हमेशा कहते हैं कि बूथ जीता तो चुनाव जीता। इसलिए बूथ हमेशा मजबूत रहना चाहिए। यूपी में 1.63 लाख बूथ हैं, यहां कार्यकर्ता सरकारी योजनाओं का लाभ हर वर्ग तक पहुंचाने का कार्य करें।

भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह ने कहा कि अपराध पर नकेल लगाने का काम योगी सरकार ने किया है। आज अपराधियों के अवैध मकानों पर बुलडोजर चल रहे हैं। उन्होंने कहा कि संगठन की सक्रियता बढ़ी है।

news source आईएएनएस

SHARE
Previous articleबॉलिंग कोच ने बताई वजह, Team India किस वजह से AUS के खिलाफ जीत पाई सीरीज
Next articleIND vs AUS: टी नटराजन का फैन हुआ यह कंगारू बल्लेबाज, तारीफ में कही बड़ी बात
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here