बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट देते समय कार्यकर्ताओं की सलाह का रखा जाएगा खास ख्याल : भाजपा

0

भाजपा ने इस बार यह साफ कर दिया है कि बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट देने के दौरान कार्यकर्ताओं के सलाह का खास ध्यान रखा जाएगा और टिकट संगठन की लंबे समय से सेवा कर रहे हैं लोगों को भी दिया जाएगा बजाय दूसरी पार्टियों से आए प्रत्याशियों को।

बुधवार को पार्टी के राष्ट्रीय संगठन मंत्री बीएल संतोष ने पटना में पदाधिकारियों के साथ वर्चुअल मीटिंग की। प्रदेश अध्यक्ष सांसद डॉ संजय जायसवाल, प्रदेश संगठन महामंत्री नागेन्द्र व सह महामंत्री शिवनारायण सहित अन्य नेताओं के साथ उन्होंने जिलावार विधानसभा के पदाधिकारियों के साथ बैठक की। इन बैठकों में विधानसभावार मनोनीत प्रभारी व जिलाध्यक्ष और प्रभारी शामिल हुए।
राष्ट्रीय संगठन मंत्री बीएल संतोष ने इस बैठक में साफ कर दिया कि भारतीय जनता पार्टी बिहार विधानसभा चुनाव में टिकट देते समय प्रत्याशियों का खास ख्याल रखेगी। क्योंकि भाजपा एक कार्यकर्ता आधारित पार्टी है और कार्यकर्ता ही भाजपा की रीढ़ की हड्डी है, इसलिए भाजपा ने इस बार प्रत्याशियों का चयन करने के लिए कार्यकर्ताओं की सलाह को महत्वपूर्ण माना है।
बिहार के पिछले विधानसभा चुनाव से सबक लेते हुए इस बार भाजपा प्रत्याशियों को चुनने में किसी भी प्रकार की गलती नहीं करना चाहती। भाजपा का बूथ से लेकर शक्ति केंद्र, मंडल व जिला स्तर पर मजबूत सांगठनिक ढांचा है। इसलिए पार्टी ने प्रत्याशियों के चयन में कार्यकर्ताओं की रायशुमारी को तवज्जो देने का निर्णय लिया है। कार्यकर्ताओं से राय लेने के लिए बीते दिनों पार्टी के चार दर्जन पदाधिकारियों ने बीते दिनों विधानसभावार दौरा भी किया था।

अब पार्टी के सांसद क्षेत्र का दौरा कर रहे हैं। इन दौरों में उम्मीदवारों के मसले पर भी कार्यकर्ताओं से फीडबैक लिया जा रहा है। कार्यकर्ताओं से मिले सुझावों के आधार पर ही उम्मीदवारों के नाम को प्रदेश से अनुशंसा मिलेगी। पार्टी की कोशिश है कि दल के लोकतांत्रिक स्वरूप को बरकरार रखते हुए पार्टी के कार्यकर्ताओं की मर्जी से ही समर्पित लोगों को टिकट दिया जाए ताकि जीत सुनिश्चित हो और इसका बेहतर संदेश भी लोगों में जाए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here