विपक्षी दलों की बैठक में सोनिया बोलीं, कोरोना से जंग में सरकार हर मोर्चे पर फेल

0

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में शुक्रवार को विपक्षी दलों की बैठक हुई। वीडियो कॉन्फ्रेंसिग के जरिए हुई इस बैठक में कोरोना वायरस के बीच प्रवासी श्रमिकों की स्थिति और मौजूदा संकट से निपटने के लिए सरकार की ओर उठाए गए कदमों और आर्थिक पैकेज को लेकर चर्चा की गई।

सोनिया गांधी ने कहा कि भारत में कोरोना वायरस का पहला केस सामने आऩे से पहले ही ही देश की इकोनॉमी संकट से जूझ रही थी। नोटबंदी और गलत तरीके से जीएसटी इसके प्रमुख कारणों में गिने जाते हैं। केंद्र सरकार की ओर से ये कदम उठाने के बाद से आर्थिक संकट गहरा गया। आर्थिक गिरवाट 2017-18 से शुरू हो गई थी।

उन्होंने कहा कि अर्थव्यवस्था सात तिमाही तक लगातार गिरावट के साथ दर्ज होती रही जो सामान्य नहीं था। वहीं सरकार गलत नीतियों के साथ आगे की तरफ कदम बढ़ाती रही है।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने कहा कि 11 मार्च को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना को वैश्विक महामारी घोषित किया। पूरे विपक्ष ने सरकार को पूरा सहयोग देने को लेकर आश्वासन दिया। यहां तक 24 मार्च को चार घंटे के नोटिस में लॉकडाउऩ का ऐलान किया गया। तब भी विपक्ष ने इस फैसले का समर्थन दिया।

उन्होंने कहा कि कोरोना से 21 दिन में जग जीतने का पीएम का पहला अंदाजा गलत साबित हुआ। उन्होंने कहा कि सरकार लॉकडाउन के मानदंड़ों को लेकर भी निश्चित नहीं थी और न ही सरकार के पास इसे हटाने की योजना है। कोरना टेस्ट और किट के आयात पर भी सरकार फेल रही है।

सोनिया गांधी ने कहा कि प्रधानमंत्री के 20 लाख करोड़ के पैकेज का ऐलान किया। वित्त मंत्री पांच दिन तक उसके बारे में जानकारी देते रहना इस देश के लिए क्रूर मजाक बन गया है।

Read More…
कोरोना संकट से क्यों बदल जाएगा लोगों के जीवन जीने का तरीका, जानें वजह….
तीन महीने तक EMI नहीं चुकाने की मिली छूट, RBI गवर्नर ने किए ये बड़े ऐलान

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here