मृदा स्वास्थ्य कार्ड से घटी लागत, बढ़ी किसानों की आय : रिपोर्ट

0

खेती की लागत कम करने और फसलों की पैदावार बढाने में मृदा स्वास्थ्य कार्ड (सॉयल हेल्थ कार्ड) काफी फायदेमंद साबित हुआ है। इस बात की पुष्टि नेशनल प्रोडक्टिविटी काउंसिल (एनपीसी) की रिपोर्ट से होती है। एनपीसी की रिपोर्ट के अनुसार, मृदा स्वास्थ्य कार्ड का इस्तेमाल करने से तुअर की फसल से किसानों की आय में प्रति एकड़ 25,000-30,000 रुपये का इजाफा हुआ है। इसी प्रकार, धान की खेती से किसानों की आय में प्रति एकड़ 4,500 रुपये, सूर्यमुखी की खेती से 25,000 रुपये प्रति एकड़, मूंगफली से 10,000 रुपये प्रति एकड़, कपास से 12,000 रुपये प्रति एकड़ और आलू की खेती से प्रति एकड़ 3,000 रुपये की आमदनी बढ़ी है।

विशेषज्ञ बताते हैं कि इस रिपोर्ट से किसान अपने खेतों की मिट्टी की जांच करवाने को लेकर उत्साहित होंगे, क्योंकि रिपोर्ट ने यह साबित कर दिया है कि किसान अगर मृदा स्वास्थ्य कार्ड के अनुसार खेती करते हैं तो उनकी लागत कम होती है और उपज बढ़ती है।

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय द्वारा सोमवार को जारी एनपीसी की रिपोर्ट के अनुसार, मृदा स्वास्थ्य कार्ड का उपयोग किए जाने से धान की उत्पादन लागत में 16-25 फीसदी तक की कमी आई है, जबकि दलहन फसलों की उत्पादन लागत 10-15 फीसदी घट गई है क्योंकि यूरिया का इस्तेमाल धान में जहां प्रति एकड़ 20 किलो कम हो गया है जबकि दलहन फसलों में इसका उपयोग 10 किलो प्रति एकड़ घट गया है।

वहीं, पैदावार की बात करें तो मृदा स्वास्थ्य कार्ड के अनुसार, खेती करने से धान की पैदावार 20 फीसदी, गेहूं और ज्वार की पैदावार 10-15 फीसदी बढ़ी है, जबकि दलहनों की पैदावार में 30 फीसदी और तिलहनों में 40 फीसदी का इजाफा हुआ है।

कृषि आय द्विगुणीकरण (डीएफआइ) समिति के अध्यक्ष अशोक दलवई कहते हैं कि सॉयल हेल्थ कार्ड मिट्टी के लिए ब्लड टेस्ट रिपोर्ट की तरह है, जिसका उपयोग होने से किसान उर्वरक का इस्तेमाल जरूरत के मुताबिक करते हैं, जिससे उनकी लागत कम हो गई है। उन्होंने कहा कि एनपीसी की इस रिपोर्ट के बाद किसान सॉयल हेल्थ कार्ड के प्रति जागरूक होंगे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 19 फरवरी, 2015 को राजस्थान के सूरतगढ़ में मृदा स्वास्थ्य कार्ड योजना का शुभारंभ किया था। इसके बुधवार को पांच साल पूरे होने से पहले इसके प्रभावों पर एनपीसी की रिपोर्ट आई है। मृदा स्वास्थ्य कार्ड किसानों को दो साल पर जारी किए जाते हैं, जिसमें मिट्टी की जांच करके किसानों को बताया जाता है कि उन्हें किस प्रकार और कितनी मात्रा में उर्वरक का इस्तेमाल करना है।

कृषि मंत्रालय ने बताया कि 2015 से 2017 तक चलने वाले पहले चरण में किसानों को 1,10.74 करोड़ और 2017-19 के दूसरे चरण में 11.69 करोड़ मृदा स्वास्थ्य कार्ड बांटे गए हैं।

एनपीसी की यह रिपोर्ट देश के 19 राज्यों के 76 जिलों में करवाए गए सर्वेक्षण के आधार पर तैयार की गई है, जिसमें 170 मृदा स्वास्थ्य परीक्षण प्रयोगशालाओं और 1,700 किसानों से पूछताछ की गई।

कृषि अर्थशास्त्री विजय सरदाना ने कहा कि इस रिपोर्ट से निस्संदेह किसानों में मृदा स्वास्थ्य कार्ड के प्रति जागरूकता आएगी, लेकिन इसका फायदा किसानों तभी मिलेगा जब उनको यह गाइड करने वाला कोई हो जो यह बताए कि उनको कौन-सा उर्वरक और कितनी मात्रा में डालना है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleक्या इस ‘बीयर’ से जुड़े हैं करॉना वायरस के तार, जानिए लोगों को क्यों लग रहा हैं ऐसा?
Next articleफलों की गुणवत्ता बताते हैं उनपर लगे स्टीकर, खरीदने से पहले ज़रूर जान लें इनका मतलब!
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here