Tuar Dal आयात की अवधि बढ़ने से कीमतों में आई नरमी

0

केंद्र सरकार द्वारा तुअर आयात की अवधि बढ़ाने के बाद मंगलवार को तुअर के दाम में करीब 300 रुपये प्रति क्विंटल की गिरावट आई। वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के तहत आने वाले विदेश व्यापार निदेशालय (डीजीएफटी) द्वारा 26 अक्टूबर को जारी एक अधिसूचना के अनुसार, तुअर आयात की अवधि बढ़ाकर 31 दिसंबर 2020 तक कर दी गई है। बाजार सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, महाराष्ट्र की अकोला मंडी में देसी तुअर का भाव 300 रुपये घटकर 7,050 रुपये प्रति क्विंटल पर आ गया। तुअर का भाव बीते 15 दिनों में करीब 2,300 रुपये प्रति क्विंटल गिरा है।

केंद्र सरकार ने चालू वित्त वर्ष 2020-21 में चार लाख टन तुअर आयात का कोटा तय किया है। तय कोटे का तुअर आयात करने के लिए सरकार ने पहले 15 नवंबर तक लाइसेंस की वैधता तय की थी, जिसे बढ़ाकर अब 31 दिसंबर 2020 कर दिया गया है।

आल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल ने बताया, “इससे पहले सरकार ने तुअर आयात के लिए सिर्फ 32 दिनों का समय दिया था, जोकि काफी कम था, इसलिए उन्होंने एसोसिएशन की तरफ से सरकार ने इस अवधि को आगे बढ़ाने की मांग की थी।”

दलहन बाजार के जानकार अमित शुक्ला ने कहा, “तुअर आयात की समय सीमा बढ़ाकर 31 दिसंबर किए जाने से आने वाले दिनों में तुअर की उपलब्धता बढ़ने की उम्मीदों से भाव में गिरावट आई है। तुअर के दाम में गिरावट का असर आने वाले दिनों में तुअर दाल के अलावा अन्य दालों पर भी देखने को मिलेगा।”

उन्होंने बताया कि देसी तुअर का भाव 9,300 रुपये प्रति क्विंटल तक चला गया था, जोकि अब घटकर 7,050 रुपये प्रति क्िंवटल पर आ गया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleआलंपिक के लिहाज से प्रदर्शन में सही समय पर सुधार अहम :Navjot Kaur
Next articleFashion tips:फैशन के दौर में आप करें इन स्टाइलिश साड़ियों का चयन
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here