Social Media: सोशल मीडिया में सूचनाओं से सावधान रहें

0

सभी सोशल नेटवर्किंग साइट वास्तविक नहीं हैं। खबर में बहुत शोर है। कई ऐसे भी हैं जो मानते हैं कि सोशल नेटवर्क पर खबर सच है। सर्वेक्षण के अनुसार, अमेरिकी अब लाइन में शामिल हो रहे हैं।

हां, अमेरिकियों का मानना ​​है कि यह वही सोशल नेटवर्किंग साइट है। एक सर्वेक्षण में सामने आया है कि अमेरिकी, जो सभी चीजों के लिए सोशल मीडिया में विश्वास करते हैं, राजनीति या कोविद के 19 आंकड़ों की परवाह किए बिना, झूठी खबरों पर विश्वास करने की अधिक संभावना है। सर्वे ने क्या कहा:Social Media Is Playing A Good Role In The Dissemination Of Literature - सोशल  मीडिया साहित्य के प्रसार में अच्छी भूमिका निभा रहा है | Patrika News

जो लोग केवल समाचारों के लिए सोशल मीडिया पर भरोसा करते हैं, वे पवन समाचार और नकली समाचारों पर विश्वास करने की अधिक संभावना रखते हैं। प्यू रिसर्च के एक सर्वेक्षण से पता चलता है कि उनके पास सटीक समाचार की कमी है।

समाचार संगठनों और सोशल नेटवर्किंग साइटों के बीच संघर्ष है। सभी मीडिया समाचार साझा करने के लिए सोशल मीडिया साइटों को साझा कर रहे हैं। सोशल नेटवर्किंग साइट्स को भी इससे फायदा हो रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि झूठी खबरें फैलाने में सोशल नेटवर्किंग साइट्स अहम भूमिका निभा रही हैं।

सर्वेक्षण में शामिल अठारह प्रतिशत लोगों ने सोशल नेटवर्क से अपनी राजनीतिक और चुनाव संबंधी खबरें प्राप्त कीं। लेकिन इन लोगों के पास सटीक जानकारी की कमी है। सर्वेक्षण के अनुसार, जो लोग सोशल नेटवर्किंग साइटों पर भरोसा करते हैं, वे समाचार, टीवी और समाचार ऐप का उपयोग करने की कम संभावना रखते हैं। इसमें विटामिन सी कोरोना
एक जो रोके जा सकने योग्य है। ऐसा सोशल नेटवर्क के कई यूजर्स का मानना ​​है।Social Media Crime: जनहित में जारी यह सूचना जरूर पढ़ें और औरों को भी  पढ़वाएं | अर्थ प्रकाश

इसके अलावा, अमेरिकी चुनाव के दौरान कई झूठी खबरें सोशल नेटवर्क पर स्ट्रीम की गईं। इस चुनाव का परिणाम कौन तय करता है? अमेरिका में बेरोजगारी दर क्या है? सर्वेक्षण के अनुसार, सोशल नेटवर्किंग पाठकों ने माना कि यह खबर कई मुद्दों पर फैली है।

सर्वेक्षण एक साल से अधिक के लिए आयोजित किया गया है। सर्वेक्षण नवंबर 2019 से दिसंबर 2020 तक किया गया था। 9,000 अमेरिकियों ने भाग लिया। सर्वेक्षण में पाया गया कि पारंपरिक समाचार माध्यमों को मानने वालों को केवल निष्पक्ष और सच्ची खबरें मिलीं।Govt Frames New Rules To Hold Social Media, Ott Accountable For Content - सोशल  मीडिया पर कुछ भी पोस्ट करने से पहले समझ लें नए नियम - Amar Ujala Hindi News  Live

केवल समाचारों के लिए सोशल मीडिया पर निर्भर रहना ठीक नहीं है, बल्कि सीधे समाचार मीडिया से समाचार प्राप्त करना है, जो नकली समाचारों के प्रसार को रोकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here