तो 10 लाख प्रकाश वर्ष दूर से आये कणों से हुई हमारी उत्पत्ति

0
77
जयपुर। हमारे लिए हमेशा से ही यह एक रहस्य बना हुआ है कि धरती का निर्माण कैसे हुआ है। और इस ब्रह्मांड का भी जन्म हुआ और सबसे बड़ा सवाल तो ये है कि इनका जन्म क्यो हुआ है। क्या कारण इसका इन सब का सवालों का जवाब इंसान कई सालों से ढूंढ रहा है। लेकिन अभी तक कोई सटीक जवाब नहीं मिला है। इसके लिए कई शोध किये जा रहे है। लेकिन कल्पनाओँ का कोई भी अंत नहीं होती है। तो ऐसे ही एक शोध से ज्ञात हुआ है
कि हम इंसान को निर्माण खरबों-खरब प्रकाश वर्ष दूर बसे किसी मृत स्टार से हुआ है। वैज्ञानिका कहना है कि हम इंसान तारों से बने हैं, तो यह काफि हद तक गलत नहीं होगा। इस विषय पर खगोलशास्त्रियों का कहना है कि जिन अणुओं से हमारा शरीर बना है, उनमें से आधे से ज्यादा अणु ऐसे हैं जिनका जन्म हमारी आकाशगंगा की एक मिल्की वे के पार हुआ था। और जानकारी के अनुसार तारों के विस्फोट के बाद अंतरिक्ष में चलने वाली हवाओं की मदद से ये कण हमारे सौर मंडल में पहुँच गये।
आपको बता दे कि अंतरिक्ष में चलने वाली ये हवाएं जीवन के निर्माण के लिए कारगर साबित हुई हैं।  इसी का अंदाजा लगाते हुये वैज्ञानिक खोज रहे है कि कहीं और ग्रह पर  ये कण गये होंगे तो हो सकता है कि किसी अन्य ग्रह पर भी इसके कण गये होंगे जिससे जीवन कि उत्पत्ति होती है। आपको बता दे कि ये हवाएं करीब 10 लाख प्रकाश वर्ष की दूरी तय कर आती हैं। तो इसके हिसाब से धरती से 10 लाख प्रकाश वर्ष दूर पर जीवन है और वहां तक पहुँचा के लिए हमारे पास ऐसी कोई अब तक तकनीक नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here