…तो अब नहीं होगा बुंदेलखंड में पेयजल संकट, जानिए कैसे ?

0

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश के हिस्से वाले बुंदेलखंड के सात जिले प्राकृतिक आपदा के अलावा हर साल भीषण पेयजल संकट से भी जूझते हैं। ऐसा पहली बार हुआ है, जब सूबे के मुख्यमंत्री ने पेयजल संकट से निजात दिलाने के लिए अपने तीन मंत्रियों को भेजकर इस संकट से उबरने के लिए मंथन करवाया।

जालौन के उरई संभाग में रविवार को हुई इस मंथन बैठक से तो यही लगता है कि बुंदेलखंड में अब ‘पेयजल’ का संकट नहीं रहेगा। उत्तर प्रदेश के हिस्से वाला बुंदेलखंड (बांदा, चित्रकूट, महोबा, हमीरपुर, जालौन, झांसी और ललितपुर) पिछले तीन दशक से प्राकृतिक आपदाओं के अलावा ग्रीष्मकाल शुरू होते ही भीषण पेयजल संकट से जूझने लगता है। कहने को राज्य सरकार ने लाखों हैंडपंप लगवा चुकी है और निरंतर लगवाए भी जा रहे हैं। लेकिन, भूगर्भ जल का स्तर नीचे गिर जाने से हैंडपंप पानी देना बंद कर देते हैं और बुंदेली नदी-नालों का पानी पीने के लिए मजबूर हो जाते हैं। इसकी बानगी बांदा जिले के फतेहगंज क्षेत्र के जंगली इलाके में दो दर्जन गांव हैं, जो अभी से कंडैला नाला और बान गंगा नाले पर आश्रित हो चुके हैं।

बुंदेलखंड में पेयजल संकट को लेकर सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की चिंता जायज है। उन्होंने अपने ग्राम्य विकास राज्यमंत्री डॉ. महेंद्र सिंह की अध्यक्षता में तीन मंत्रियों को बुंदेलखंड भेजा है, जिन्होंने रविवार को उरई में सभी बुंदेली विधायक और सांसदों के अलावा विभागीय अधिकारियों के बीच मंथन किया और पेयजल से निजात के लिए सभी विकल्पों पर विचार भी किया।

इस मंथन बैठक के बाद राज्यमंत्री डॉ. सिंह ने संवाददाताओं को बताया कि सात जिलों के लगभग 4500 गावों में पेयजल का संकट अधिक है, जिसमें 23 सौ गांवों में पानी की व्यवस्था कर दी गई है और शेष गांवों में की जा रही है।

उन्होंने बताया, “डेढ़ दशक से लंबित पड़ी पेयजल परियोजनाओं को भी शुरू किया जाएगा और 15 मार्च तक सभी हैंडपंपों का रिबोर सुनिश्चित किया जाएगा।”

मंत्री ने कहा, “पेयजल और सिंचाई व्यवस्था के निदान के लिए सरकार संकल्पित है, हैंडपंप ठीक कराने के अलावा नहरों से तालाब भी भरे जाएंगे, ताकि मवेशियों को सहजता से पानी उपलब्ध हो सके। नगर विकास विभाग द्वारा 2175 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है, जिसके तहत नगर पंचायत, नगर पालिका परिषद और नगर निगमों के क्षेत्र में पेयजल संकट दूर किया जाएगा। साथ वाटर रिचार्जिग पर भी कदम उठाए जाएंगे।”

इतना सब होने के बाद भी चित्रकूट जिले के पाठा क्षेत्र के वाशिंदों का पेयजल पर संशय बरकरार है, क्योंकि यहां एशिया की सबसे बड़ी ‘पाठा पेयजल योजना’ आधी-अधूरी संचालित है। कई दशक बाद भी लक्षित गांवों तक पानी नहीं पहुंच पाया और हर साल करोड़ों रुपये खर्च हो रहे हैं।

इस योजना के विधिवत संचालन पर मंत्री या विधायक या सांसद कुछ नहीं बोले। अब देखना यह होगा कि बुंदेलखंड से पेयजल संकट दूर होगा या पूर्ववर्ती सरकारों की भांति मौजूदा सरकार भी महज ‘घड़ियालू आंसू’ बहाएगी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleमध्य प्रदेश: भाजपा निकालेगी किसान सम्मान यात्रा, जानिए इसके बारे में !
Next articleबॉलीवुड के इन दिग्ग्जों के साथ हिट थी श्रीदेवी की जोड़ी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here