Snapdeal ने घरों तक डिलीवरी के लिए किया रोबोट परीक्षण

0

महामारी के बीच उपभोक्ताओं की सुरक्षा चिंताओं को दूर करने के लिए ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस स्नैपडील ने ऑटोनॉमस मोबिलिटी स्टार्टअप ओटोनॉमी आईओ द्वारा विकसित रोबोट का उपयोग करते हुए पैकेटों की अंतिम-मील डिलीवरी का परीक्षण किया है। दोनों कंपनियों ने मंगलवार को कहा कि भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में नेविगेट करने के लिए रोबोट विशेष आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं। वे फुटपाथ और स्थानीय सड़कों पर भी बड़ी आसानी से आवागमन कर सकते हैं।

BSF ने सांबा में पांच आतंकवादियों के घुसपैठ के प्रयास को नाकाम किया

ये रोबोट मशीन लर्निग का उपयोग करते हैं और 3-डी लिडार एवं कैमरों के फ्यूज डेटा का उपयोग करते हुए बाहरी दुनिया के बारे में अच्छी समझ रखते हैं।

एक बार जब डिलीवरी रोबोट दरवाजे पर आता है, तो ग्राहक को अलर्ट मिलता है। उपयोगकर्ता को भेजे गए एक यूनीक क्यूआर कोड के माध्यम से रोबोट के होल्ड एरिया को अनलॉक किया जा सकता है और ग्राहक उनके ऑर्डर को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

चूंकि डिलीवरी रोबोट एक बार में कई ऑर्डर अपने साथ रख सकते हैं, इसलिए ग्राहक द्वारा उपयोग किया जाने वाला क्यूआर कोड केवल विशिष्ट पैकेज होल्ड क्षेत्र को अनलॉक करता है, जिसमें उपयोगकर्ता द्वारा दिया गया ऑर्डर होता है। यानी रोबोट के पास कई लोगों का सामान होने की स्थिति में भी क्यूआर कोड के माध्यम से हर ग्राहक के पास उसके द्वारा ऑर्डर किया गया सामान बिना किसी परेशानी के पहुंच जाएगा।

स्नैपडील के एक प्रवक्ता ने अपने एक बयान में कहा, “हम भविष्य में उन्मुख क्षमताओं को विकसित करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निग में भारी निवेश कर रहे हैं। रोबोट के माध्यम से डिलीवरी लॉजिस्टिक्स के विकसित भविष्य का हिस्सा है और हम इन तकनीकों का परीक्षण करने के लिए ओटोनॉमी आईओ के साथ साझेदारी करने के लिए उत्साहित हैं।”

यह पायलट परीक्षण नोएडा और गुरुग्राम में कई सोसायटी में आयोजित किया गया है।

डिलीवरी रोबोट आवासीय सोसाइटियों के प्रवेशद्वार पर तैनात किए गए थे, जिसमें डिलीवरी एजेंट ने एक क्यूआर कोड स्कैन किया और पैकेज को अंदर रखा।

सोसायटी के मानचित्र से लैस, रोबोट ने उपभोक्ता तक पहुंचने के लिए नेविगेट किया और रास्ते में पैकेट को कीटाणुरहित कर दिया।

जब भी मानव हस्तक्षेप की जरूरत हो तो उस परिस्थिति में रोबोट की निगरानी कर इसे नियंत्रण किया जा सकता है।

ऑटोनॉमी आईओ के सह-संस्थापक रितुकर विजय ने कहा, “दुकानदार की सुरक्षा और बेहतर अनुभव सुनिश्चित करने के लिए संपर्क रहित डिलीवरी समय की जरूरत है।”

विजय ने कहा कि इससे दुकानदारों और वितरण पेशेवरों की सुरक्षा चिंताओं को दूर करने में मदद मिलेगी।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleIPL 2020: ऐसे 5 खिलाड़ी जो अपनी टीम के कप्तान से ज्यादा लेंगे सैलरी
Next articleIPL 2020: खास गेंदों के साथ इस सीजन में जलवा दिखाने के लिए तैयार हैं Kuldeep Yadav
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here