महाशिवरात्रि 2020: भगवान शिव के परिवार से ​सीखें संस्कार

0

हिंदू धर्म में महाशिवरात्रि का पर्व बहुत ही खास महत्व रखता हैं वही देशभर में आज महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जा रहा हैं हर कोई इस पावन अवसर पर शिव को प्रसन्न करना चाहता हैं शिव को प्रसन्न करने से पहले जातक को यह देखना चाहिए कि क्या वह शिव के बताए गए मार्ग का अनुसरण कर रहा हैं तो आज हम आपको इसके बारे में पूरे विस्तार से बताने जा रहे हैं तो आइए जानते हैं।

वही आप किसी भी मंदिर में जाएं, आपको केवल शिव जी अकेले नहीं बल्कि अपने पूरे परिवार सहित विराजमान मिलेंगे। शिव का पूरा परिवार आपको खुद के परिवार में रहने की समझ देता हैं। सबसे पहले तो बात करेंगे भगवान शिव के वस्त्रों के बारे में, भगवान शिव के वस्त्र बहुत ही सादे होते हैं जिसका अर्थ घर के मुख्य सदस्य को हमेशा अपना पहनावा ​सरल और सादा रखना चाहिए, जिससे आपके परिवार के अन्य सद्स्य देखें और खुद को भी ऐसा बनाने की कोशिश करें। चाहे आपके पास कितना भी धन हो मगर वो धन हमेशा किसी अच्छे कार्य के लिए इस्तेमाल हो तो ज्यादा बेहतर होगा। भगवान शिव के केसों में से बहने वाली गंगा इस और इशारा करती हैं कि घर के मुखिया को अपना दिमाग हमेशा शांत रहना चाहिए। उसे घर में होने वाले सभी मसलों को शांत मन से सुनकर सभी की इच्छाओं का ध्यान रखते हुए उनका हल निकालना चाहिए। गले में नीलकंठ यानी ईश्वर ने अपने गले में विष और अमृत दोनों को डाल रखा हैं यह आपके ऊपर निर्भर करता हैं कि आप इस में से किस चीज का इस्तेमाल करते हैं। भगवान शिव हमेशा कैलाश पर्वत पर विराजमान होते हैं इसका अर्थ आपका आपके परिवार पर विश्वास कैलाश पर्वत जितना होना चाहिए और आपको खुद के निर्णयों पर भी कैलाश पर्वत जितना विश्वास होना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here