पिता को गंवा चुकी तनिष्का के सपनों को साकार करने की शिवराज ने उठाई जिम्मेदारी

0

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल की आठ वर्षीय नन्हीं बच्ची तनिष्का सोनी के सपनों को साकार करने की जिम्मेदारी ‘मामा’ के रूप में संभाली है।

तनिष्का के पिता का पिछले दिनों निधन हो गया था। इस बात की जानकारी मुख्यमंत्री को जैसे ही मिली, उन्होने तत्काल तनिष्का के परिवार के लिए दो लाख रुपये की आर्थिक सहायता स्वीकृत की। आधिकारिक तौर पर मंगलवार को दी गई जानकारी के अनुसार, मुख्यमंत्री चौहान ने कहा है कि “विपदा की इस घड़ी में सरकार सोनी परिवार के साथ है। परिवार को हर संभव सहायता की जाएगी। परिवार की सुरक्षा के साथ मेरी भांजी तनिष्का के सपनों को साकार किया जाएगा।”

तनिष्का के पिता योगेन्द्र सोनी डायल 100 में कार्यरत थे। सोनी परिवार के सदस्य कोविड-19 से संक्रमित हो गए थे, जिनका उपचार किया जा रहा था। सोनी को भी क्वोरंटीन किया गया था। उनकी रिपोर्ट नेगेटिव आई थी। लेकिन किडनी फेल्योर के कारण सोनी की मृत्यु हो गई, और पूरे परिवार पर संकट आ गया। डायल 100 संचालित करने वाली कंपनी बीवीजी के पदाधिकारियों और रेडियो हेडक्वोर्टर के अधिकारियों ने प्रभावित परिवार से संपर्क कर तात्कालिक रूप से 20 हजार रुपये की आर्थिक सहायता प्रदान की।

बीवीजी कंपनी द्वारा सोनी के परिवार को पीएफ की राशि 55 हजार रुपये, ई़ एस़ आई़ सी़ की राशि 70 हजार रुपये और मासिक पेंशन चार हजार रुपये स्वीकृत किए गए, जिसका भुगतान शीघ्र ही किया जाएगा। पुलिस प्रशासन द्वारा दिवंगत सोनी की पत्नी को कंपनी में नौकरी के लिए प्रस्ताव दिया गया है।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleजन्मदिन से पहले फैंस को नेहा कक्कड़ देने वाली है बड़ा सरप्राइज
Next articleविदुर नीति: सफलता पाने का अचूक मंत्र है महाभारत के विदुर की ये बातें
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here