Birthday Special: जब शर्मिला टैगोर को पूरे शहर से हटवाने पड़े थे बिकिनी वाले पोस्टर

0
384

आज हिंदी सिनेमा की मशहूर और दिग्गज अभिनेत्री शर्मिला टैगोर अपना 74वां जन्मदिन मना रही हैं। शर्मिला टैगोर का जन्म 8 दिसंबर को हैदराबाद में एक बंगाली परिवार में हुआ था। शर्मिला टैगोर को आज उनकी मशहूर फिल्में आराधना, अमर प्रेम, कश्मीर की कली जैसे शानदार और यादगार फिल्मों के लिए जाना जाता है। इन फिल्मों में अपने दमदार अभिनय से शर्मिला टैगोर ने हर किसी का दिल जीत लिया। आपको बता दें कि शर्मिला टैगोर का नाम उस दौर की सबसे बोल्ड अभिनेत्री के रूप में लिया जाता है। इसकी एक खास वजह थी। शर्मिला टैगोर ने अपने अभिनय करियर की शुरूआत सत्यजीत रे की फिल्म अपुर संसार से की थी। अपनी पहली ही फिल्म में शर्मिला टैगोर ने अभिनय से हर किसी का दिल जीत किया था। लेकिन बॉलीवुड में उनका पहचान फिल्म कश्मीन की कली से मिली थी। इसमें उनके साथ अभिनेता शम्मी कपूर नजर आए थे। ये साल 1964 में रिलीज हुई थी। इसके बाद शर्मिला टैगोर ने राजेश खन्ना के साथ कई मशहूर और सुपरहिट फिल्म में काम किया है। जिसमें अराधना और अमर प्रेम जैसे फिल्में शामिल हैं। उस वक्त दोनों की जोड़ी को एक साथ काफी ज्यादा पसंद करते थे। यही कारण है कि ये जोड़ी जब भी कोई फिल्म करती थी तो वो सुपरहिट होती थी। अगर हम शर्मिला टैगोर के पर्सनल लाइफ की बात करें तो करोड़ों दिलों पर राज करने वाली शर्मिला टैगोर के दिल पर राज मशहूर भारतीय क्रिकेटर मंसूर अली खान पटौदी करते हैं। दोनों ने एक दूसरे से शादी कर ली थी। हालांकि दोनों की शादी होना आसान नहीं था क्योंकि शर्मिला को हिंदू धर्म छोड़ कर इस्लाम अपनाना पड़ा और वो शर्मिला से आयशा सुल्तान बन गईं। ये सिर्फ निकाह के लिए औपचारिक तौर पर किया गया था।

आपको बता दें कि शर्मिला टैगोर को बॉलीवुड की बोल्ड अभिनेत्री मानने का कारण था कि वो बॉलीवुड की ऑरिजनल बिकिनी गर्ल थी। उन्होंने अपनी फिल्म एन इवनिंग इन पेरिस में पहली बार बिकिनी सीन दिया था। जो साल 1967 में ​रिलीज हुई थी। इस फिल्म में एक बिकिनी सीन देकर वो रातों रात स्टार बन गई थी। एन इवनिंग इन पेरिस में शर्मिला के साथ शम्मी कपूर भी मुख्य भूमिका में थे। हालांकि इससे उनकों परेशानी भी हुई थी। दरअसल बात ये है कि फिल्म का बिकिनी वाला पोस्टर मुंबई में कई जगहों पर लगा हुआ था। उस वक्त मंसूर की मां शर्मिला को पहली बार देखने मुंबई जाने वाली थी। जब ये बात उनको पता चली तो उन्होंने पूरे शहर से इस पोस्टर को हटवा दिया जिससे मंसूर की मां ये पोस्टर न देख पाए। शर्मिला को आखिरी बार फिल्म ब्रेक के बाद में देखा गया था जो 2010 में रिलीज हुई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here