बाहुबली Mukhtar Ansari के करीबी शाहिद का अवैध निर्माण हुआ जमींदोज

0

उत्तर प्रदेश सरकार मफियाओं की कमर तोड़ने के लिए लगातार कार्रवाई कर रही है। इसी कड़ी में शनिवार को मऊ के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के करीबी शाहिद के राजधानी स्थित अवैध निर्माण पर ध्वस्तीकरण की कार्रवाई की गई।

लखनऊ विकास प्राधिकरण की टीम ने हजरतगंज में साहू सिनेमा के बगल में रानी सल्तनत प्लाजा की चौथी मंजिल को गिराया। प्लाजा की चौथी मंजिल पर बनी सभी 10 अवैध दुकानों को तोड़ा गया। कार्रवाई के दौरान भारी पुलिस बल मौजूद रहा। मुख्तार अंसारी के करीबी के बताए जा रहे इस अवैध प्लाजा को गिराने को लेकर एक महीना पहले ही लखनऊ विकास प्राधिकरण ने नोटिस दिया था।

लखनऊ के डीएम व एलडीए वीसी अभिषेक प्रकाश ने बताया कि मुख्तार अंसारी का डायरेक्ट नहीं, लेकिन उनके करीबियों से जुड़ा या भवन होना पाया गया है। फिलहाल हम अवैध निर्माण के तहत कार्रवाई कर रहे हैं।

लखनऊ विकास प्राधिकरण की संयुक्त सचिव ऋतु सुहास के नेतृत्व में जोन 6 में बने प्लाजा पर कार्रवाई की जा रही है। सुबह से शुरू हुई कार्रवाई 5 घंटे बाद भी जारी है। अवैध रूप से बनाए गए तीन मंजिला प्लाजा मैं शीशे और संगमरमर के पत्थरों से दुकानें बनाई गई थी।

हजरतगंज गांधी आश्रम के बगल में बनाया प्लाजा रानी सल्तनत का हैं। प्राधिकरण के जोन 6 हजरतगंज गांधी आश्रम के बगल में अवैध निर्माण ध्वस्त हो रहा है। संयुक्त सचिव ऋतु सुहास , अधिशाषी अभियंता कमलजीत, अवर अभियंता भरत पांडेय, अवर अभियंता नित्यानन्द चौबे और सहायक अभियंता एन एस शाक्य टीम के साथ कॉम्पलेक्स गिराने में जुटे हैं।

रानी सल्तनत बेगम और अन्य के खिलाफ एलडीए ने 2005 में कारण बताओ नोटिस भेजा था। जिसमें रानी सल्तनत बेगम द्वारा स्थल पर स्वीकृत मानचित्र के विरुद्ध साइट सेट बैक व रियर सेट बैक कवर करके अनाधिकृत रूप से निर्माण कराया गया और निर्माण कार्य को बंद नहीं किया गया।

जारी पत्र में एलडीए ने यह भी बताया गया कि, रानी सल्तनत बेगम वह अन्य से पूछा गया कि,आखिर अवैध निर्माण को क्यों ना गिराया जाए? लेकिन रानी सल्तनत बेगम व अन्य लोग उपस्थित नहीं हुए ना ही उनके द्वारा कोई जवाब या साक्ष्य प्रस्तुत किया गया जबकि विपक्षियों को जवाब व साक्ष्य प्रस्तुत करने के लिए, लखनऊ विकास प्राधिकरण ने अवसर भी दिया था।

बिल्डिंग निर्माण गलत तरीके से कराया गया जिसमें विपक्षी द्वारा स्वीकृत मानचित्र के विरुद्ध अनाधिकृत रूप से भवन निर्माण कराया गया जोकि प्रवर्तन और भवन विभाग की आख्या में स्पष्ट है कि,रानी सल्तनत बेगम व अन्य मानचित्र के विरुद्ध निर्माण कराए गए हैं,गलत नक्शे पर,भवन निर्माण के चलते बिल्डिंग गिराने के अतिरिक्त कोई विकल्प नहीं है।

जिलाधिकारी (डीएम) एवं लखनऊ विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष अभिषेक प्रकाश के निर्देश पर प्लाजा की चौथी मंजिल पर बनाई गई सभी 10 अवैध दुकानों को तोड़ दी गई। यह पूरी इमारत करीब पांच वर्ग फीट में बनाई गई है। अभियंताओं ने बताया चौथी मंजिल मानचित्र के विपरीत बनाई गई थी। पहले भी नोटिस दी जा चुकी है, लेकिन न तो कंपलेक्स स्वामी ने समान नीति के तहत पालन किया गया और न ही अवैध निर्माण को खुद तोड़ा। इसलिए लखनऊ विकास प्राधिकरण ने कार्रवाई की है। डीएम ने बताया कि पहले दुकानें तोड़ी जाएंगी फिर साइड के दीवारें गिराई जाएंगी। अंत में छत का नंबर आएगा।

न्यूज स्त्रोत आईएएनएस

SHARE
Previous articleWHATSAPP :व्हाट्सएप ने यूज़र्स को नयी सेवाओं के बारे में याद दिलाना किया शुरू।
Next articleVijaywada डिवीजन में प्लेटफॉर्म टिकट की कीमत बढ़ी
बहुत ही मुश्किल है अपने बारे में लिखना । इसलिए ज्यादा कुछ नहीं, मैं बहुत ही सरल व्यतित्व का व्यक्ति हूं । खुशमिजाज हूं ए इसलिए चेहरे पर हमेशा खुशी रहती हैए और मुझे अकेला रहना ज्यादा पंसद है। मेरा स्वभाव है कि मेरी बजह से किसी का कोई नुकसान नहीं होना चाहिए और ना ही किसी का दिल दुखना चाहिए। चाहे वो व्यक्ति अच्छा हो या बुरा। मेरे इस स्वभाव के कारण कभी कभी मुझे खामियाजा भी भुगतान पड़ता है। मैं अक्सर उनके बारे में सोचकर भुला देता हूं क्योंकि खुश रहने का हुनर सिर्फ मेरे पास है। मेरी अपनी विचारए विचारधारा है जिसे में अभिव्यक्त करता रहता हूं । जिन लोगों के विचारों से कभी प्रभावित भी होता हूं तो उन्हें फोलो कर लेता हूं । अभी सफर की शुरुआत है मैने कंप्यूटर ऑफ माटर्स की डिग्री हासिल की है और इस मीडीया क्षेत्र में अभी नया हूं। मगर मुझे अब इस क्षेत्र में काम करना अच्छा लग रहा है। और फिर इसी में काम करने का मन बना लेना दूसरों के लिये अश्चर्य पूर्ण होगा। लेकिन इससे पहले और आज भी ब्लागर ने एक मंच दिया चिठ्ठा के रुप में, जहां बिना रोक टोक के आसानी से सबकुछ लिखा या बताया जा सका। कभी कभी मन में उठ रही बातों या भावों को शब्दों में पिरोयाए उनमें खुद की और दूसरों की कहानी कही। कभी उनके द्वारा किसी को पुकाराए तो कभी खुद ही रूठ गया। कई बार लिखने पर भी मन सतुष्ट नहीं हुआ और निरंतर कुछ नया लिखने मन बनता रहता है। अजीब सी बेचैनी जो न जाने क्या करवाएगी और कितना कुछ कर गुजर जाने की तमन्ना लिए निकले हैं इन सफरों, जहां उम्मीद और विश्वास दोनों कायम हैं जो अर्जुन के भांति लक्ष्य को भेद देंगे । मुझे अभी अपने जीवन में बहुत कुछ करना है किसी के सपनों को पूरा करना हैं । अब तो बस मेरा एक ही लक्ष्य हैं कि मैं बस उसके सपने पूरें करू।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here