खिताब गंवाने के बाद सेरेना ने लगाया लिंगभेद का आरोप, टेनिस जगत में मची खलबली

यूएस ओपन को 2018 का खिताब गंवाने के बाद सेरेना विलियम्स ने टेनिस को लिंगभेदी करार दिया है। बता दें की नाओमी ओसका से फाइनल में सेरेना को 6-2,6-4 से हार का सामना करना पड़ा है । इसके साथ ही उनका ग्रैंड स्लैम जीतने का सपना भी चकनाचूर हुआ है।

0
55

जयपुर( स्पोर्ट्स डेस्क) ।यूएस ओपन को 2018 का खिताब गंवाने के बाद सेरेना विलियम्स ने टेनिस को लिंगभेदी करार दिया है। बता दें की नाओमी ओसका से फाइनल में सेरेना को 6-2,6-4 से हार का सामना करना पड़ा है । इसके साथ ही उनका ग्रैंड स्लैम जीतने का सपना भी चकनाचूर हुआ है।

यही नहीं फाइनल मुकाबले के मैच के नतीज से ज्यादा सेरेना और चेयर अंपायर के बीच का विवाद सुर्खियां बटोर रहा है । मैच के दौरान सेरेना को दूसरे सेट में अंपायर कार्लोस रामोस ने बॉक्स कोचिंग लेने का कारण चेतावनी दी ।

इसके बाद रैकेट से फाउल पर 36 साल के इस खिलाड़ी को जब दूसरी बार आचार संहिता के उल्लंघन की चेतावनी और एक अंक की पेनल्टी दी तो यह अमेरिकी खिलाड़ी गुस्से से भड़क गई।

रोते हुए सेरेना ने अंपयार को झूठा और चोर करार दिया। यही नहीं उन्होंने अंपायर से माफी मांगने को भी कहा बता दें की सेरेना ने फाइनल के बाद पत्रकारों से कहा वह मुझ पर बेईमानी का आरोप लगा रहे थे और मैं बेईमानी नहीं कर रही थी मैं कोर्ट पर रहते समय कोचिंग का इस्तेमाल नहीं करती है ।

इसके साथ ही सेरेना ने कहा कि इस घटना से उनकी यह धारणा और मजबतू हुई है कि खेलों महिला खिलाड़ियों से उनके समकक्षों से अलग व्यवहार किया जाता है। उन्होंने यह भी कहा मैंने पुरुष खिलाड़ियों को और भी कई चीजों को कहते हुए सुना है। मैं यहां महिला अधिकारों और महिलाओं को बराबरी का हक दिलाने में के लिए लड़ रही हू्ं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here